नोटबंदी के बाद अब ऑनलाइन कैश ट्रांसफर के जरिए जिस्‍म बेच रही हैं कॉलगर्ल्‍स

देह-व्यापार निरोधी दस्ते (एंटी वाइस स्कावड) की एक विशेष टीम ने हाल ही में युवती को मुक्त कराया है जिसे बाद में एक अदालत में पेश किया गया।

Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्‍ली। नोटबंदी के बाद से पूरे देश में 500 और 1000 के पुराने नोटों को खपाने की होड़ लगी हुई है। बात अगर कारोबार की करें तो इसका असर बड़े पैमाने पर देखने को मिल रहा है। लेकिन एक कारोबार ऐसा है जहां नोटबंदी का असर बिल्‍कुल नहीं है। जी हां यह दुनिया का सबसे पुराना करोबार है जिसे जिस्‍म का करोबार कहा जाता है। चेन्‍नई में पुलिस ने एक हाईफाई सेक्‍स रैकेट का खुलासा किया है जो ऑनलाइन कैश ट्रांसफर पर कॉलगर्ल मुहैया कराते थे।
रेडलाइट एरिया में वेश्‍याओं ने दिया खुला ऑफर- मेरे साथ वक्त बिताओ, 1000-500 के नोट दे जाओ 

Prostitution Racket Using Online Fund Transfer Busted In Chennai

आपको बता दें कि जिस्‍मफरोशी का करोबार अकसर नकद पर होता है। पुलिस ने इस रैकेट का भंडाफोड करते हुए पॉश होटल से एक महिला को मुक्‍त कराया है। जानकारी के मुताबिक देह-व्यापार निरोधी दस्ते (एंटी वाइस स्कावड) की एक विशेष टीम ने हाल ही में युवती को मुक्त कराया है जिसे बाद में एक अदालत में पेश किया गया। युवती ने इस रैकेट के संचालन के बारे में कई सनसनीखेज खुलासे किए। अब पुलिस रैकेट के संचालक मोहन सिंह की तलाश कर रही है।
तस्वीरों में देखें भारत के 10 बदनाम बाजार जहां धडल्ले से होता है जिस्म का सौदा  

Whatsapp और Facebook पर होती थी डीलिंग

पुलिस ने बताया कि रैकेट का संचालक मोहन सिंह व्हाटस ऐप सहित सोशल मीडिया के जरिए ग्राहकों को लुभाता था। पुलिस ने बताया कि मोहन सिंह पहले ग्राहकों से मोबाइल पर संपर्क स्थापित करता था और फिर व्हॉट्सऐप और फेसबुक के जरिये लड़कियों की तस्वीरें भेजता था। सौदा तय जाने पर मोहन ग्राहक को उसके द्वारा बताई जगह पर बुलाया जाता था। इसके बाद उसे लड़की उपलब्ध करा देता था।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Busting a high-end prostitution racket which involved online transfers of money and the use of social media, city police have rescued a woman from a star hotel here and are searching for the kingpin.
Please Wait while comments are loading...