IS से जुड़ने पर सेक्स स्लेव और शहादत पर वर्जिन लड़की का देते थे लालच

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi

मुंबई आईएस के लिए लोगों की भर्ती कराने के आरोपी फारूख उर्फ शफी अरमार ने प्रभानी यूथ नासिर चौस को आईएस में शामिल करने के लिए सेक्स स्लेव का प्रलोभन दिया था।

10,999 रुपए का रेडमी नोट-3 जानिए कहां से खरीदें महज 9,499 रुपए में

शफी ने कहा था कि इराक पहुंचने पर उसे सेक्स स्लेव मुहैया कराई जाएंगी, जबकि शहादत के बाद उसे वर्जिन लड़कियां दी जाएंगी।

सोशल मीडिया से भरमाया

सोशल मीडिया से भरमाया

इसके बाद चौस ने तीन अन्य स्थानीय लोगों के साथ मिलकर एक मॉड्यूल बनाया था, जिन्हें महाराष्ट्र एटीएस के पूर्व एसपी को रास्ते से हटाने का काम सौंपा गया था। एटीएस के वरिष्ठ अधिकारी ने कहा है कि चौस द्वारा दी गई ये सारी जानकारियां प्रभानी केस के तहत महाराष्ट्र एटीएस अपनी चार्जशीट में शामिल करेगी।

आईएसआईएस मुखिया बगदादी को दिया गया जहर, किसी अनजान जगह पर इलाज!

प्रभानी आईएस मॉड्यूल का एक खास सदस्य रहे चौस से फारूख ने सोशल मीडिया के जरिए संपर्क किया था। इसके बाद फारूख ने चौस को उसके साथ कई मैसेंजर ऐप जैसे टेलिग्राम और स्पैनचैट के जरिए चैट करने की निर्देश दिए थे।

चौस आ गया झांसे में

चौस आ गया झांसे में

इसी चैट के दौरान चौस सेक्स स्लेव मिलने और शहादत के बाद वर्जिन लड़कियां मिलने के प्रलोभन में आ गया। साजिश का एक हिस्सा यह भी था कि चौस को फारूख ने प्रभानी मॉड्यूल का प्रमुख बना दिया। चौस फारूख के झांसे में आ गया और इस मॉड्यूल को बनाने के लिए तीन स्थानीय लोगों को उसने अपने साथ मिला लिया।

दाऊद के समधी मियांदाद ने भारतीयों को कहा 'डरपोक कौम'

एक वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक जैसे ही मॉड्यूल बनकर तैयार हुआ तो चौस ने इराक जाने का फैसला किया, लेकिन फारूख ने उसे भारत में हमले को अंजाम देने को कहा। साथ ही उसने कहा कि चौस तब तक भारत के ही ऑपरेशन देखे, जब तक कि इराक में उसके रहने का इंतजाम किया जा रहा है।

फुर्ती से चार्जशीट फाइल करेगी एटीएस

फुर्ती से चार्जशीट फाइल करेगी एटीएस

सूत्रों का कहना है कि एटीएस इस मामले में चार्जशीट फाइल करने में काफी फुर्ती दिखाना चाहती है, क्योंकि यह केस एनआईए को ट्रांसफर कर दिया गया था, जिससे एटीएस काफी नाराज है।

ग्रेनेड के हमले से थे घायल, फिर भी आतंकियों पर गोलियां चलाते रहे नितिन

राज्य के गृह विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा है कि भले ही एनआईए के लिए यह जरूरी है कि वह अनलॉफुल एक्टिविटीज प्रिवेंशन एक्ट के तहत रजिस्टर केस की छानबीन करे, लेकिन इस केस पर महाराष्ट्र एटीएस ने बहुत काम किया है और उन्हें इस बात की इजाजत मिलनी चाहिए कि इस केस में वह अपना निष्कर्ष दे सकें। महाराष्ट्र एटीएस द्वारा इस केस में चार्जशीट फाइल किए जाने का फैसला उच्च स्तर पर लिया गया है।

एटीएस ने पकड़े थे चार लोग

एटीएस ने पकड़े थे चार लोग

इस साल जुलाई और अगस्त के बीच महाराष्ट्र एटीएस ने प्रभानी आईएस मॉड्यूल का पर्दाफाश करते हुए प्रभानी और हिंगोली से चार लोगों को गिरफ्तार किया था। इन लोगों के नाम मोहम्मद रायसुद्दीन मोहम्मद सिद्दीकी, इकबाल अहमद कबीर अहमद, नासिर चौस और शहीद खान हैं।

सीमा पार से हैकर हैक रहे विमानों की फ्रिक्वेंसी, पायलट्स को सुना रहे हैं गाना

एटीएस ने दावा किया था कि ये मॉड्यूल औरंगाबाद एटीएम यूनिट पर बड़ा हमला करने की योजना बना रहे थे। यह ग्रुप पूर्व एसपी नवीनचन्द्र रेड्डी को टारगेट कर रहा था।

अरब की राजकुमारी ने पहले पैर चूमने को कहा, फिर दे दी मौत की सजा

देश-दुनिया की तबरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
promise to give slave and virgins for isis recruitment
Please Wait while comments are loading...