आईएएस को आत्महत्या करने से रोकने के लिए पीछे-पीछे भागती रही पुलिस

Written By:
Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। बक्सर के डीएम मुकेश पांडे ने गुरुवार की शाम को आत्महत्या कर ली। उन्होंने आत्महत्या करने से पहले अपने परिवार को इसकी खबर दे दी थी जिसके बाद उनके परिजनों ने दिल्ली पुलिस को भी इस बाबत सूचित किया था। लेकिन तमाम कोशिशों के बाद भी पुलिस उनतक पहुंचने में नाकाम रही।

ias

शव मिला था रेलवे ट्रैक पर

महज 32 साल के युवा आईएएस अफसर मुकेश ने पटना जाने के लिए अपने दफ्तर से छुट्टी ले रखी थी जहां पर उनके अनुसार उनके चाचा को दिल का दौरा पड़ा था। परंतु पटना के बाद 10 अगस्त की सुबह वा सीधा दिल्ली पहुंचे जहां उन्होंने चाणक्यपुरी के लीला पैलेस होटल में एक कमरा लिया। उसी दिन की शाम को उनका शव गाजियाबाद के रेलवे ट्रैक पर पाया गया।

DM Mukesh Pandey की Suicide से पहले का Video, Watch । वनइंडिया हिंदी

होटल का कमरा किया था बुक

मुकेश की आत्महत्या के पहले दिल्ली पुलिस उनको ढूंढने की तमाम कोशिशें की, इसके लिए बकायदा छह टीमों का गठन किया गया। पुलिस ने उनका पीछा उनके होटल से लेकर दिल्ली-गाजियाबाद सीमा तक किया। पुलिस को लीला होटल के उनके कमरे से उनका सुसाइड नोट प्राप्त हुआ था। पुलिस ने जनकपुरी वेस्ट मेट्रो स्टेशन पर लगे सीसीटीवी कैमरे में भी उनकी पहचान कर ली थी। जनकपुरी में तो पुलिस उनके काफी करीब भी पहुंच गई थी लेकिन उन्हें रोक पाने में नाकाम रही। रात के करीब 9.40 बज रहे थे जब जीआरपी हवलदार महेश शर्मा ने गाजियाबाद के रेलवे ट्रैक पर उनके शव को देखा।

पुलिस को गुरुवार शाम को मिली थी जानकारी

पुलिस को सबसे पहले गुरुवार की शाम 4.30 बजे पांडे की रिश्तेदार जो दिल्ली में रहती हैं, ने खबर दी थी की पांडे आत्महत्या करने की फिराक में हैं। उन्होंने सरोजनी नगर पुलिस स्टेशन को तुरंत ही खबर दी जिसके बाद वहां से एक पुलिस की टीम पांडे को ढूंढने के लिए रवाना हो गई। पांडे ने अपनी रिश्तेदार को अपने होटल से ही फोन पर बता दिया था कि वे अब इस दुनिया को अलविदा कहने जा रहे हैं।

साझा किया सुसाइड नोट

पुलिस ने बताया की पांडे ने दो सुसाइड नोट छोड़े हैं जिसमे उन्होंने लिखा था कि वे जनकपुरी की एक बिल्डिंग की 10वीं मंजिल से कूद कर आत्महत्या करने जा रहे हैं। उन्होंने उसमे यह भी लिखा था कि वे अपनी जिंदगी से बेहद परेशान हो चुके हैं और उनका मानवता पर से विश्वास उठ चुका है। हालांकि पुलिस ने उनके सुसाइड नोट की सारी बाते साझा नहीं की हैं।

दोस्त ने भी बताया था

जनकपुरी जाते वक्त मुकेश ने अपने दिल्ली के एक दोस्त को भी फोन कर अपने आत्महत्या करने के विचार के बारे में बताया था जिन्होंने तुरंत पुलिस को खबर कर दी थी। पुलिस को वेस्टएंड मॉल से पांडे का फोन भी बरामद हुआ है। पुलिस का मानना है कि वे पहले मॉल की 11वीं मंजिल से ही कूदकर अपनी जान देने का विचार कर रहे थे लेकिन पुलिस को अपने करीब देखकर हड़बड़ी में वहां से निकलते हुए वे अपना फोन वहीं पर छोड़ गए।

देश-दुनिया की तबरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Police tried hard but couldn't succeed to stop IAS officer's suicide. Police gave it immense effort to rescue.
Please Wait while comments are loading...