नोटबंदी पर बोले रामदेव: जब जवान बिना खाए बॉर्डर पर लड़ सकते हैं तो हम क्‍यों नहीं

'देश लाइन में लग रहा है' पर बाबा रामदेव ने कहा कि जंग के दौरान हमारे जवान भूखे-प्‍यासे 7-8 दिन तक लड़ते रहते हैं, तो देश के लिए हम ऐसा क्‍यों नहीं कर सकते।

Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्‍ली। नोटबंदी के फैसले को लेकर सियासत शुरु हो गई है। कोई इसे आपातकाल की स्थिति बता रहा है तो कोई विरोध करने के लिए सड़क पर उतर चुका है। लेकिन इस बीच योग गुरु बाबा रामदेव ने पीएम मोदी का समर्थन किया है। उन्‍होंने कहा है कि लोगों को परेशानी हो रही है लेकिन सरकार मदद करने की कोशिश कर रही है। बाबा रामदेव ने कहा है कि लोगों को मोदीजी की निंदा नहीं करनी चाहिए।
पतंजलि के नाम पर शिलाजीत बेचने पर फंसे बाबा रामदेव

Baba Ramdev
 

'देश लाइन में लग रहा है' पर बाबा रामदेव ने कहा कि जंग के दौरान हमारे जवान भूखे-प्‍यासे 7-8 दिन तक लड़ते रहते हैं, तो देश के लिए हम ऐसा क्‍यों नहीं कर सकते। आपको बता दें कि इससे पहले बाबा रामदेव ने सरकार के बड़े नोटों को बंद करने के फैसले का स्वागत किया था।

घरेलू हिंसा के मामले में गिरफ्तार हुए शीला दीक्षित के दामाद 

लखनऊ में हिन्दुस्तान शिखर समागम में बाबा रामदेव ने कहा, "आंतकवाद और नक्सलवाद को बड़ी करेंसी के रूप में पैसा मिलता है। हर राजनीतिक पार्टी चाहती है कि काला धन और भ्रष्टाचार ख़त्म हो।" दो हजार रुपये के नए पर बाबा रामदेव ने कहा, "दो हज़ार के नोट या तो न लाये जाये या फिर कम लाये जाएं।"

विरोध करने को तैयार ममता

वेस्ट बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने कहा है कि सरकार के 500-1000 के नोट बंद करने के फैसले को सही नहीं कहा जा सकता। ऐसे में देश बचाने के लिए वे सीपीएम (मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी) के साथ काम करने को तैयार हैं। आपको बता दें कि ममता, सीपीएम की धुरविरोधी रही हैं। सीपीएम के लंबे शासनकाल के दौरान विकास न होने की बात कहकर ही वे सत्ता में आई थीं।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Our soldiers fight sans eating for 7-8 days during war; so can't we do the same for our nation asked Baba Ramdev over currency issue.
Please Wait while comments are loading...