हुर्रियत ने किया ऐलान 25 अगस्‍त तक जारी रहेगी घाटी में हड़ताल

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi

श्रीनगर। जम्‍मू कश्‍मीर के माहौल को कैसे बिगाड़ा जाए, हुर्रियत कांफ्रेंस और अलगाववादी नेताओं के पास इसका जवाब हर पल रहता है। हुर्रियत कांफ्रेंस ने मानों तय कर लिया है कि वह घाटी में जारी हिंसा को रोकने के प्रयासों की जगह इस आग में और घी डालाा जाएगा।

kashmir-hurriyat-valley

पढ़ें-कश्‍मीर में पुलिस को दिए गए आतंकियों से नरमी बरतने के निर्देश!

हुर्रियत का जारी किया नया कैलेंडर

लगातार 42 दिन तक जारी कर्फ्यू के बीच ही हुर्रियत ने ऐलान कर दिया है कि वह हड़ताल को 21 अगस्‍त तक जारी रखेगी। एक एंबुलेंस ड्राइवर की मौत ने यहां पर तनाव को और बढ़ा दिया है।

पढ़ें-वानी की मौत का फायदा उठा रहे हैं कश्‍मीर के अलगाववादी नेता

हुर्रियत ने अपना एक नया कैंलेडर जारी किया है जिसमें उसने विरोध प्रर्दशनों और हडताल के बारे में जानकारी दी है। हुर्रियत ने उन सभी सांसदों, विधायकों और एमएलसीज से इस्‍तीफे की मांग की है जो भारत के लिए एक अच्‍छी भावना रखते हैं।

हालातों को नहीं बदलना चाहती हुर्रियत

जो लोग कश्‍मीर और हुर्रियत से वाकिफ हैं उन्‍हें मालूम है कि जब तक इस तरह के कैलेंडर्स जारी होना बंद नहीं होंगे, हालात भी नहीं बदलेंगे। राज्‍य के लोगों की मानें तो यहां पर सबकुछ ठप्‍प है और हर जरूरी सेवा उन्‍हें मिल ही नहीं पा रही है।

पढ़ेंं-पाक सेना की ग्रीन बुक में कश्‍मीर के बारे में क्‍या लिखा है?

वहीं दूसरी ओर अलगाववादी नेता भी हालातों में बदलाव की कोई कोशिश नहीं कर रहे हैं। लोगों ने भी अब अलगाववादी नेताओं को वर्तमान परिस्थितियों के लिए जिम्‍मेदार ठहराना शुरू कर दिया है।

पेेट्रोल पंप सूखे और लोग परेशान

पेट्रोल पंपों पर भी पेट्रोल नहीं और जनता की मानें तो अथॉरिटीज ने तेल कंपनियों को डिस्‍ट्रीब्‍यूटर्स को तेल की सप्‍लाई न करने को कहा है। वहीं दूसरी ओर सरकारी अधिकारियों की मानें तो रक्षा बंधन की वजह से तेल की सप्‍लाई को अस्‍थायी रूप से बंद कर दिया गया था।

देश-दुनिया की तबरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
To make matters worse in Jammu Kashmir the Hurriyat Conference has extended its strike call until August 25 in a new calendar.
Please Wait while comments are loading...