भारत ने UN में फिर दिया पाक को जवाब, कहा- हकीकत नहीं बदल सकती

Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी प्रतिनिधि सैयद अकबरुद्दीन ने कहा है कि पाकिस्तान की ओर से अंतरराष्ट्रीय फोरम का दुरुपयोग हकीकत नहीं बदल सकता।

VIDEO: सर्जिकल स्ट्राइक पर सवालों से मुंह फेर गए पाक उच्चायुक्त बासित

Akbaruddin

अकबरुद्दीन ने कहा कि पाकिस्तान की ओर से लोगों को भ्रम में डालने का समय अब पूरा हो चुका है। पाकिस्तान के प्रति हमारी प्रतिक्रिया दृढ़ है। जम्मू और कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है और हमेशा रहेगा।

बीजेपी नेता ने कहा- केजरीवाल जैसे देशद्रोही के रहते PAK से नहीं हो सकता युद्ध

अकबरुद्दीन ने कहा कि वो देश जो दुनिया के बीच खुद को आतंक का केंद्र साबित कर चुका है। उसके ऐसे दावे (कश्मीर के संबंध में) वैश्वविक समुदाय के बीच कोई स्थान नहीं रखते।

पाकिस्तानी संसद में भारत के खिलाफ नवाज शरीफ के 10 कड़वे बोल

चीन और  संयुक्त राष्ट्र पर भी साधा निशाना

इसके साथ हीजैश-ए-मोहम्मद सरगना मसूद अजहर को संयुक्त राष्ट्र की ओर से प्रतिबंधित आतंकी घोषित कराने के संबंध में उसके प्रस्ताव पर चीन की ओर से दोबारा लगाए गए तकनीकी रोक पैदा करने के बाद भारत ने संयुक्त राष्ट्र परिषद पर निशाना साधा है।

भारत ने उसे उदासीन बताया है।

अकबरुद्दीन ने कहा कि 15 सदस्यों की सुरक्षा परिषद की इस प्रमुख इकाई का काम सुरक्षा और शांति बरकरार रखने का था लेकिन यह हमारे जरूरतों के संबंध में कई ओर से उदासीन हो चुकी है।

साथ ही अपने सामने मौजूद चुनौतियों से मुकाबला करने में बेअसर है।

पाकिस्तान को क्यों पालता है चीन, एक और बड़ी वजह सामने आई

बिना चीन का नाम लिए अकबरुद्दीन ने पेइचिंग से लगाई गई तकनीकी रोक लगाए जाने का हवाला दिया और कहा कि सुरक्षा परिषद सिर्फ इसी विचार में 6 माह लगा दिया कि क्या उन संगठन के नेताओं को प्रतिबंधित करना है जिसे उन्होंने खुद आतंकी संस्था मान रखा था।

उन्होंने कहा कि इसके बाद वो फैसला करने में अक्षम रहती है। वह इसपर आगे विचार करने के लिए तीन और माह का समय देती है।

किसी को भी सिर्फ यह जानने के लिए आशापूर्वक इन्तजार करना पड़ता है कि परिषद ने इस पर फैसला किया अथवा नहीं।

इसकी बनावट में बदलाव की जरूरत

अकबरुद्दीन ने कहा कि फिलहाल यह एक ऐसी इकाई बन गई है जिसमें अनौपचारिकता, संघर्ष और राजनीतिक निर्बलता के दिलचस्प और अनियमित मिश्रण है। उन्होंने कहा कि वैश्वविक शासन की इस बनावट में बदलाव की जरूरत है।

रामगोपाल ने कहा- सुग्रीव और शरीफ की नस्ल से मिलकर बने हैं केजरीवाल

बता दें कि भारत इससे पहले भी संयुक्त राष्ट्र के खिलाफ निशाना साध चुका है।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
No amount of misuse of international fora by Pak will change reality-Akbaruddin
Please Wait while comments are loading...