दुष्कर्म पीड़िता की मां का दर्द, बेटी का रेप करने के आरोपी को चाहती है वो आए जेल के बाहर लेकिन क्यों

Subscribe to Oneindia Hindi

रोहतक। हरियाणा स्थित रोहतक में अपने ही सौतेले पिता की हवस का शिकार हुई 10 वर्षीय बच्ची के मामले ने सबको चौंका दिया था लेकिन अब पीड़िता की मां चाहती है कि आरोपी को इस परिवार को चलाने के लिए छोड़ दिया जाए।

पीड़िता की मां यह जानती है कि उसका पति बेकसूर नहीं है लेकिन उसकी प्राथमिकता परिवार चलाना है। अंग्रेजी अखबार हिन्दुस्तान टाइम्स के अनुसार पीड़िता की मां ने कहा कि कृप्या मेरे पति को छोड़ दें। ये एनजीओ और कार्यकर्ता जो बड़े-बड़े दावे कर रहे हैं वो मेरी और मेरे बच्चों का ख्याल नहीं रखेंगे। वो 2-3 दिन में चले जाएंगे। मेरा पति हमारा ख्याल रखेगा। 

बता दें कि पीड़िता बच्ची अभी भी अस्पताल में है और उसके एबॉर्शन की तैयारी चल रही है। मामले में संदिग्ध को कुछ दिन पहले ही गिरफ्तार किया गया है। पीड़िता के परिजन मजदूरी करते हैं।

घरों में बर्तन धुलती है मां

उसकी मां घरों में बर्तन धुल कर और खाना बनाकर महीने के5,000 रुपए कमा लेती है और उसका पति और रेप का आरोपी एक प्राइवेट कंपनी में काम कर के 10,000 रुपए।

पीड़िता के मां ने कहा कि जब उसके पहले यह बताया गया कि उसके पति ने बच्ची के साथ दुष्कर्म किया तो उसे यकीन नहीं हुआ। जब उसके पति ने खुद यह बात स्वीकार की तो उसे इस बात पर विश्वास हुआ। उसने कहा कि मैं चौंक गई। उसने मुझसे 5 साल पहले शादी की थी और उसने कभी मेरी तीन बेटियों पर गंदी नजर नहीं डाली।

पीड़िता की मां ने कहा कि उसके दूसरे पति से उसे कोई बच्चा नहीं है क्योंकि उसकी नसबंदी हुई है। उसके दूसरे पति ने पहली शादी से हुए बच्चों को स्वीकर कर लिया। मां ने कहा कि मेरे पहले की मौत के बाद, मुझे अपने 4 बच्चों के साथ आगे कोई जिंदगी नजर नहीं आ रही थी। इसके बाद मेरे पति के दूसरे भाई ने मुझसे शादी की और मुझे अच्छी जिंदगी देने का वादा किया।

तब पता चला कि लड़की है गर्भवती

पीड़िता की मां ने कहा कि बच्ची के साथ अपराध उस वक्त सामने आया जब बच्ची अपने ने पैर में दर्द की शिकायत की और फिर उसे स्थानीय डॉक्टर को दिखाया गया तब पता चला कि वो गर्भवती है। मां ने कहा कि जब उसने यह बात उस औरत को बताई जिसके लिए वो काम करती थी तो उसे सलाह दी गई कि वो बेइज्जती ना हो इसलिए गांव से चली जाए।

इतना ही नहीं मां ने बताया कि एक प्राइवेट डॉक्टर ने यहां तक कहा कि उसकी बच्ची को मारने के लिए 20,000 रुपए लगेंगे। मां ने कहा कि हम गरीब लोग कहां से 20,000 रुपए लाते, और मैं वाकई यह नहीं चाहते थे कि मैं अपनी बच्ची को मार दूं।

हालांकि मामले में एक महिला जिसके यहां पीड़िता की मां काम करती थी उसने पुलिस से शिकायत की और फिर सौतले पिता को गिरफ्तार किया गया।

देश-दुनिया की तबरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Mother of 10-yr-old Rohtak girl raped by stepfather wants husband to be set free.
Please Wait while comments are loading...