ये हैं मोदी की 'धर्म-बहन', चौथी क्‍लास में थीं तबसे बांधत‍ी हैं राखी

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi

नयी दिल्‍ली। एक लड़की पीएम नरेन्‍द्र मोदी को तबसे राखी बांध रही है जब वो चौथी क्‍लास में थी। इतना ही नहीं राखी मिलने के बाद पीएम मोदी पत्र लिखकर उसका शुक्रिया अदा करना नहीं भूलते। आप सोच रहे होंगे कि आखिर कौन है ये लड़की? तो आपको बता दें कि उसका नाम रिपल प्रजापति है और नरेंद्र मोदी उसके धर्म भाई हैं।

मिलिए राजनीति के दिग्‍गज भाई-बहनों से, कहीं रिश्ता खून का कहीं दिल का 

Meet PM Narendra Modi's Dharama Sister
 

यह सिलसिला तबसे चल रहा है है जब मोदी गुजरात के सीएम हुआ करते थे। लेकिन जबसे वो प्रधानमंत्री हुए हैं तबसे रिपल उन्‍हें राखी भेज रही है। रिपल की उम्र अब 21 साल है।

राखी मिलते ही पत्र लिखते हैं पीएम मोदी

मोदी की धर्म बहन रिपल का कहना है कि पिछले साल रक्षाबंधन पर उन्‍हें पीएमओ की तरफ से पत्र आया था और इस बार भी उन्‍हें जैसे राखी मिलेगी वो पत्र जरूर भेजेंगे। रिपल ने बताया कि साल 2004 में पहली बार जब मैंने नरेन्‍द्र मोदी को टीवी पर देखा था तो अपने पापा से कहा था कि मुझे इन्‍हें राखी बांधनी है।

उसके बाद रिपल के पिता ने मुख्‍यमंत्री ऑफिस में फैक्‍स किया और बताया कि उनकी बेटी सीएम को राखी बांधना चाहती है। बतौर रिपल अगले ही दिन सीएम ऑफिस से जवाब आ गया कि राखी वाले दिन राखी लेकर पीएम ऑफिस पहुंच जाना। बस उसी दिन से रिपल और नरेन्‍द्र मोदी के बीच भाई-बहन का रिश्‍ता हो गया।

मोदी ने भी निभाया भाई का फर्ज

इंडिया टूडे में प्रकाशित एक खबर के मुताबिक रिपल जब पहली बार मोदी को राखी बांधने गई थी तो उनके लिए भगवत गीता लेकर गई थी। मोदी ने भी राखी बंधवाने के बाद बड़े भाई की तरह रिपल को आर्शिवाद दिया। वो रिपल से कहते थे कि जिंदगी के किसी भी मुकाम पर तुम्हे तुम्हारे भाई की मदद कि जरूरत हो तो जरूर याद करना। मैं जरूर आऊंगा।

ना बीजेपी और ना ही आरएसएस से कोई संबंध है रिपल का

इस पूरे मामले में जो सबसे खास बात है वो ये है कि रिपल का भाजपा और आरएसएस से कुछ लेना देना नहीं है। रिपल मोदी को ना सिर्फ राखी ही भेजती हैं बल्‍कि उनके बर्थडे पर भी पत्र लिखती हैं।

देश-दुनिया की तबरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Meet PM Narendra Modi's Dharama Sister, ties Rakhi since she was in class 4th.
Please Wait while comments are loading...