नोटबंदी के खिलाफ 28 नवंबर को भारत बंद, दिखेगा मिला जुला असर

नोटबंदी का खास असर देखने को मिलने की संभावना है।

Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। नोट बंदी के मुद्दे पर संसद में तो सरकार और विपक्ष के बीच संग्राम जारी ही है, अब ये सड़क पर भी आने को है। नोटबंदी के विरोध में लगभग पूरा विपक्ष एक साथ है।

सरकार के इस फैसले के विरोध में करीब 14 दल है, जिसमें कांग्रेस,टीएमसी जदयू,माकपा, भाकपा, बसपा, राजद और एनसीपी सरीखे दल शामिल हैं।

बता दें कि नोटबंदी के फैसले के विरोध में विपक्ष ने 28 नवंबर (सोमवार) को आक्रोश दिवस मनाने का फैसला किया है। इसके अंतर्गत सभी राज्यों में सरकार के फैसले के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया जाएगा।

विमुद्रीकरण पर टाटा ने कहा- तीन बड़े सुधारों में से एक, फैसले को देश के समर्थन की जरूरत

bharat bandh

टीएमसी-टीआरएस ने खुद को किया बाहर

हालांकि इस विरोध प्रदर्शन से टीएमसी और टीआरएस ने खुद को बाहर कर लिया है। दक्षिण भारत में इस आक्रोश दिवस का खास असर दिखेगा। सोमवार को कांग्रेस और लेफ्ट पार्टियों ने बंद का आह्वान किया है।

पीएम की सभा में महिला ने कहा- ये सब झूठ है, उठा ले गई पुलिस

इस बंद का समर्थन तमिलनाडु ट्रेडर्स एसोसिएशन ने समर्थन किया है। इस बंद के दौरान कर्नाटक की सार्वजनिक परिवहन सेवा संभवतः प्रभावित रह सकती है। वहीं केरल में पूरी तरह से बंद होगा।

वहीं बात उत्तर भारत की करें तो यहां उत्तर प्रदेश में व्यापारी वर्ग बंटा हुआ दिख रहा है। यहां बड़े व्यापार मंडल पीएम मोदी के फैसले का समर्थन कर रहे हैं।

बिहार में भी दिखेगा असर

साथ ही बिहार में भी इस बंद का खास असर देखने को मिल सकता है क्योंकि वहां विपक्षी दल राजद पूरे तैयारी के साथ सड़क पर उतरेगी।

गौरतलब है कि इसी माह 8 की तारीख को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्र के नाम संदेश के दौरान यह घोषणा की थी कि 500 और 1,000 रुपए की करेंसी विमुद्रीकृत उसी दिन आधी रात के बाद से विमुद्रीकृत कर दी गई है।

सर्वे में खुलासा, नोटबंदी से खफा दिख रहे केरल के लोग

इस घोषणा के बाद पूरा देश परेशान हो उठा। उन्होंने कहा था कि यह कदम आतंकवाद और कालेधन के नासूर को खत्म करने के लिए उठाया जा रहा है।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Left and cong have called for bandh on Monday,28 november
Please Wait while comments are loading...