Infosys इंजीनियर मर्डर केस: जानिए क्‍या थे रासिला राजू के आखिरी शब्‍द

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi

पुणे। पुणे में इंफोसिस की महिला इंजीनियर रासिला राजू की हत्या के मामले में एक नया खुलासा हुआ है। रासिला राजू की वो आखिरी बातचीत सामने आई है, जो वो अपने कजिन से फोन पर कर रही थी। इस बातचीत के दौरान रासिला ने ऑफिस बिल्डिंग के नौवीं मंजिल पर किसी के घुसने की आवाज सुनी। एनडीटीवी की खबर के मुताबिक रासिला, कजिन अंजलि नंदकुमार से अपने ट्रांसफर का जिक्र कर रही थी। इसी दौरान रासिल ने कहा, जरा रूक मेरे ऑफिस में कोई घुस रहा है, मैं बाद में बात करती हूं।'

Infosys इंजीनियर मर्डर केस: जानिए क्‍या थे रासिला राजू के आखिरी शब्‍द

उल्‍लेखनीय है कि रासिला पुणे से बेंगलुरू ट्रांसफर चाहती थी और इसके लिए वह हर कोशिश कर रही थी। जांच के बाद ये भी बात सामने आई है कि रासिल ने हत्‍या करने वाले गार्ड के साथ काफी देर तक लड़ी भी थी। मामले की जांच में जुटे डॉक्टर ने कहा कि रासिला के चेहरे और चेस्ट पर कई चोंटे आई हुई थी। इतना नहीं उसके कंधों पर दांत से काटने के निशान थे, जिससे साफ जाहिर होता है कि आरोपी उसका फायदा उठाना चाहता था। लेकिन उसके विरोध करने पर हत्यारा इस कदर नाराज हुआ कि उसने रासिला को खत्म करने की ठान ली। रासिला के मुंह और नाक से खून बहता हुआ पाया गया था और ये खून गार्ड भाबेन सकैया के कपड़ों पर भी लग गया था। 

घूरने से मना करने पर मार डाला

पुलिस के मुताबिक, आरोपी ने पूछताछ में बताया कि वह कॉन्फ्रेंस रूम के पास गया था, जहां रासिला काम कर रही थी। वह रासिला को देख रहा था तो उसने उसे घूरने से मना किया। इसी बात को लेकर दोनों में बहस होने लगी और रासिला ने उसकी शिकायत करने की चेतावनी दी। पढ़ें- 11वीं की छात्रा को समलैंगिक संबंध के लिए दो बहनें कर रही थीं मजबूर, फांसी लगा ली
नौकरी खोने के डर से सैकिया ने पहले रासिला से माफी मांगते हुए शिकायत न करने की अपील की लेकिन जब वह अपनी बात पर अड़ी रही तो उसने पहले उसके चेहरे पर वार किया फिर कंप्यूटर वायर से गला घोंटकर उसकी हत्या कर दी। हत्या के बाद वह चुपचाप अपनी ड्यूटी में लग गया और आम दिनों की तरह ही टाइम पूरा होने पर घर के लिए निकला।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
As Infosys techie Rasila Raju (24) slaved away in office, all alone on a Sunday, her sole consolation was that this was her ticket for a transfer out of the Pune branch.
Please Wait while comments are loading...