कश्मीरियों के लिए नर्क बन गया है धरती पर स्वर्ग कहलाने वाला कश्मीर

Subscribe to Oneindia Hindi

श्रीनगर कभी कश्मीर धरती पर स्वर्ग कहलाता था लेकिन अब यह कश्मीरियों के लिए नर्क बन गया है। पिछले तीन महीने से हिंसा की आग में झुलस रहे कश्मीर घाटी में हुर्रियत ने बंद का आह्वान कर रखा है और इससे तंग आकर अब कश्मीरी सड़क पर उतरकर इसका विरोध कर रहे हैं।

Read Also: कश्मीर में कट्टर अलगाववादी को अनुसना कर पुलिस भर्ती के लिए आए हजारों युवा

kashmir bandh

मुश्किल में कश्मीर के लोग

हुर्रियत के बंद का विरोध करने उतरे लोगों में से एक कश्मीरी ने अलगाववादी नेताओं से गुहार लगाते हुए कहा, 'गिलानी साब देखो हमारे घरों में चूल्हे जलने बंद हो गए, हम तंग आ गए हैं।'

एक स्थानीय महिला ने कश्मीर में मुश्किल हालात के बारे में कहा कि पिछले तीन महीने से बंद होने की वजह से उनकी जिंदगी बुरी तरह से प्रभावित हुई है। वह बच्चों के स्कूल की फीस नहीं भर पा रही हैं।

हुर्रियत से डरते हैं कश्मीरी

8 जुलाई को आतंकी बुरहान वानी के मुठभेड़ में मारे जाने के बाद से कश्मीर घाटी में अशांति फैली हुई है। कश्मीर में कर्फ्यू नहीं होने के बावजूद कर्फ्यू जैसा माहौल बना हुआ है। दुकान, स्कूल, कोर्ट-कचहरी, बाजार सब बंद रह रहे हैं।

एक कश्मीरी का कहना है कि हुर्रियत ने बंद का ऐलान कर रखा है इसलिए कोई दुकान खोलने की हिम्मत नहीं कर रहा। कुछ लोग जो हिम्मत जुटाकर दुकान खोल रहे हैं वो जानते हैं कि उनके खिलाफ हिंसक कार्रवाई हो सकती है।

बच्चे नहीं जा पा रहे स्कूल

कश्मीर घाटी में पिछले तीन महीनों से स्कूल बंद हैं। बच्चे स्कूल नहीं जा पा रहे हैं और कश्मीरी अपने बच्चों के भविष्य को लेकर चिंतित हैं।

डल झील पर पसरा है सन्नाटा

कश्मीर घाटी में अशांति की वजह से पर्यटन सबसे ज्यादा प्रभावित हुआ है। डल झील पर सन्नाटा पसरा रहता है और यहां कोई पर्यटक नहीं आ रहा। यहां पर्यटन उद्योग से जुड़े लोगों के लिए आजीविका का संकट खड़ा हो गया है।

Read Also: टेलिकॉम कंपनियों से टक्कर लेने के लिए jio ने लिया बड़ा फैसला

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Kashmiri people are now openly protesting against the bandh organised by Hurriyat for three months.
Please Wait while comments are loading...