हिंदू धर्म भी खतरे में है, यूनीफॉर्म सिविल कोड लागू होना चाहिए- जावेद अख्तर

जावेद अख्तर बोले सिर्फ मुस्लिम धर्म ही नहीं बल्कि हिंदू धर्म भी है खतरे में, यूनीफॉर्म सिविल कोड को लागू किए जाने की अख्तर ने की वकालत

Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। मशहूर गीतकार जावेद अख्तर ने एक कार्यक्रम के दौरान बोलते हुए कहा कि इस्लाम हमेशा से ही खतरे में था, लेकिन अब हिंदू धर्म भी खतरे में है। उन्होंने कहा कि हिंदू धर्म संस्कृति और उपसंस्कृतियों में बंटा है।

javed akhtar

अख्तर तीन तलाक पर भी अपनी बेबाक राय रखी, उन्होंने कहा कि यह परंपरा खत्म होनी चाहिए और इसपर तत्काल प्रतिबंध लगना चाहिए। इसके साथ ही उन्होंने यूनीफॉर्म सिविल कोड की भी वकालत की है।

500 और 2000 रुपए के नोट के बारे में बड़ा खुलासा किया अधिकारी ने

यूनीफॉर्म सिविल कोड की वकालत करते हुए अख्तर ने कहा कि हालांकि मैं नहीं जानता हूं कि यह किस हद तक संभव है क्योंकि हमारा समाज काफी व्यापक है लेकिन इसपर अच्छी तरह से चर्चा के बाद इसे लागू किया जाना चाहिए।

जावेद अख्तर ने कहा कि भारत कई परंपराओं, संस्कृति में बंटा हुआ है, ऐसे में हर किसी को कानून के दायरे में लाना संभव नहीं है। उन्होंने कहा कि सरकार को सिविल कोड का एक ड्राफ्ट इंटरनेट पर डालना चाहिए।

सिविल कोड अगर ड्राफ्ट होगा तो इसपर व्यापक चर्चा हो सकती है, इसपर एक साल तक मंथन होने के बाद इसे लागू किया जाना चाहिए, जिससे संविधान और मजबूत होगाा, इसके साथ ही लोगों में किसी भी तरह का भ्रम नहीं होगा।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Javed Akhtar say not only Islam but Hindu are also in danger. He says Uniform civil code should be implemented.
Please Wait while comments are loading...