जापान सरकार की सीक्रेट रिपोर्ट: ऐसे हुआ था नेताजी सुभाष चंद्र बोस का निधन

Subscribe to Oneindia Hindi

लंदन। नेताजी सुभाष चंद्र बोस की मौत की रहस्यमय गुत्थी अब तक नहीं सुलझ पाई है। इस बीच जापान सरकार के एक गोपनीय दस्तावेज को सार्वजनिक किया गया है जिसके अनुसार सुभाष चंद्र बोस की मौत 18 अगस्त 1945 को ताइवान में विमान दुर्घटना में हुई थी। 60 साल पुराने इस दस्तावेज को ब्रिटिश वेबसाइट bosefiles.info पर सार्वजनिक किया गया है जिसमें उस विमान दुर्घटना की पूरी कहानी का जिक्र है।

READ ALSO: क्या गुमनामी बाबा ही थे सुभाष चंद्र बोस, पता करेगी सरकार

subhash chandra bose

जापान सरकार की इस रिपोर्ट में कहा गया है कि 18 अगस्त 1945 को विमान हादसे में बुरी तरह से घायल होने के बाद ताइपेई के एक हॉस्पिटल में उनकी मौत हो गई और 22 अगस्त को उनका अंतिम संस्कार कर दिया गया।

विमान के उड़ते ही हुआ हादसा

रिपोर्ट के मुताबिक 48 साल के नेताजी सुभाष चंद्र बोस का विमान जैसे ही उड़ा और धरती से करीब 20 मीटर ऊपर उठा, इसके प्रोपेलर की एक पंखुरी टूट गई और इंजन गिर गया। इसके बाद विमान असंतुलित हुआ और हवाई पट्टी पर जा गिरा। विमान के गिरते ही उसमें आग लग गई।

विमान की आग में नेताजी झुलसे

रिपोर्ट में आगे कहा गया है कि नेताजी के कपड़ों में भी आग लग गई और जलती हुई अवस्था वे विमान से बाहर निकले। कर्नल हबीबुर रहमान और अन्य सहयात्रियों ने नेताजी के कपड़ों में लगी आग को बुझाने की कोशिश की लेकिन तब तक वह बुरी तरह से झुलस गए थे।

शाहनवाज खान समिति की रिपोर्ट

1956 में तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू ने सुभाष चंद्र बोस की मौत की छानबीन के लिए शाहनवाज खान समिति बनाई थी। इस रिपोर्ट में भी विमान दुर्घटना में नेताजी के निधन होने की बात थी। bosefiles.info के अनुसार, जापान सरकार की गोपनीय रिपोर्ट शाहनवाज खान समिति की रिपोर्ट का समर्थन करती है।

READ ALSO: अंग्रेजों ने नेताजी सुभाष चंद्र बोस को वार क्रिमिनल नहीं घोषित किया था

जापान सरकार की रिपोर्ट पहली बार सार्वजनिक

वेबसाइट का कहना है कि इस रिपोर्ट को पहली बार सार्वजनिक किया गया है। 1956 में जापान सरकार ने भारतीय दूतावास को यह रिपोर्ट सौंपी थी लेकिन अब तक इसे गुप्त रखा गया था।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
A 60-year-old Japanese government investigation report on the circumstances of Subhas Chandra Bose's death is being made public for the first time by a website.
Please Wait while comments are loading...