कश्‍मीर में लोगों से इंडियन आर्मी ने की शांति की अपील

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi

श्रीनगर। कश्‍मीर में जारी अशांति और हिंसा के माहौल के बीच ही इंडियन आर्मी ने लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की है। आर्मी ने शुक्रवार को कहा कि हर किसी को एक कदम पीछे हटना होगा और साथ में बैठकर समस्‍या का समाधान निकालना पड़ेगा। 

indian-army-d-s-hooda-appeal-kashmir

पढ़ें-पैलेट गन के प्रयोग पर सीआरपीएफ का जवाब

सिक्‍योरिटी फोर्सेज पर न हो हमले

नॉर्दन आर्मी कमांडर डीएस हुड्डा ने एक बयान जारी किया है। हुड्डा ने कहा कि हर किसी को उन विकल्‍पों पर विचार करना होगा जो माहौल को शांत बनाए रखने में कारगर साबित होंगे।

उन्‍होंने कहा कि सिक्‍योरिटी फोर्सेज को आदेश दिए गए हैं कि वह ज्‍यादा से ज्‍यादा संयम बरतें। दूसरी तरफ के लोगों को भी यह सुनिश्चित करना होगा कि पुलिस स्‍टेशनों और सिक्‍योरिटी फोर्सेज के बेस पर हमले न हों।

गौरतलब है कि आठ जुलाई को हिजबुल मुजाहिदीन के आतंकी बुरहान वाानी की मौत के बाद से ही कश्‍मीर में हिंंसा जारी है और अब तक इसमें 60 लोगों की मौत हो चुकी है।

पढ़ें-25 अगस्‍त तक जारी रहेगी घाटी में हड़ताल, हुर्रियत का ऐलान

एक व्‍यक्ति या संगठन के बस की बात नहीं

हुड्डा ने कहा कि 40 दिनों से हिंसा और तनाव का दौर जारी है और कई लोग घायल हो चुके हैं। ऐसे में मेरी अपील है कि हम सब साथ बैठे और यह सोचे कि क्‍या हम इस हालात को कोई विकल्‍प तलाश सकते हैं।

उन्‍होंने कहा कि जो भी जम्‍मू कश्‍मीर में किसी भी तरह से शामिल है उसे अपने अंदर देखने की जरूरत है कि वह कैसे इन सब पर विराम लगा सकता है। अकेला व्‍यक्ति या कोई एक संगठन अकेले इसमें सफल नहीं हो सकता है।

पढ़ें-कश्‍मीर में पुलिस को दिए गए आतंकियों से नरमी बरतने के निर्देश!

सबसे ज्‍यादा बच्‍चे प्रभावित

हुड्डा ने इस बात की ओर ध्‍यान दिलाया कि हिंसा के इस दौर में सबसे ज्‍यादा नुकसान उन बच्‍चों का हुआ है जो स्‍कूल नहीं जा पा रहे हैं।

उन युवाओं का हुआ है जो हॉस्पिटल में हैं, ऑफिस न जा पाने वाले कर्मियों का, व्‍यापारियों का नुकसान हुआ है। यहां तक कि सुरक्षाबलों और पुलिस को भी काफी नुकसान झेलना पड़ा है।

अलगाववादी पीछे हटें

जब हुड्डा से पूछा गया कि क्‍या उन्‍होंने अलगाववादी नेताओं से भी यही अपील की है तो उनका कहना था, 'हर किसी को पीछे हटने की जरूरत है।'

उन्‍होंने अलगाववादी नेताओं से सवाल किया कि विरोध प्रदर्शनों के कैलेंडर कहां से आ रहे हैं। आपको बता दें कि अलगाववादी नेताओं ने विरोध प्रदर्शनों का एक नया कैलेंडर गुरुवार को जारी किया है।

पढ़ें-वानी की मौत का फायदा उठाते कश्‍मीर के अलगाववादी नेता

युवा बन रहे हैं आतंकी संगठनों का हिस्‍सा

हुड्डा ने इस बात पर भी चिंता जाहिर की कि कश्‍मीर के युवा हिंसा की आड़ में आतंकी संगठनों का हिस्‍सा बन रहे हैं। उन्‍होंने बताया कि केंद्र सरकार से लेकर राज्‍य सरकार तक हर कोई इस बात को लेकर चिंतित है। उन्‍होंने बताया कि इस बात का कोई आसान जवाब नहीं है कि इस पर कैसे लगाम लगाई जा सकती है।

पढ़ेंं-पाकिस्‍तान में आजादी ट्रेन और बुरहान वानी के पोस्‍टर्स

आर्मी करेगी पूरी मदद

उन्‍होंने कहा कि यह फैसला किया गया है कि आर्मी सिक्‍योरिटी फोर्सेज और पुलिस को हाइवेज और सड़कों पर सुरक्षा सुनिश्‍चित करने में मदद देगी।

कश्‍मीर में फिलहाल कानून व्‍यवस्‍था पुलिस और सीआरपीएफ के हाथ में है। उन पुलिस स्‍टेशनों को मदद दी जाएगी जहां पर पुलिस कर्मी कम संख्‍या में हैं।

पढ़ें-आतंकियों की सुरक्षा में वानी के पिता, बहन भी आएगी लड़ाई में

फिलहाल कश्‍मीर में मोर्चा नहीं संभालेगी आर्मी

उन्‍होंने यह भी कहा कि फिलहाल इस बात की कोई संभावना नहीं है कि आर्मी कश्‍मीर में मोर्चा संभालेगी क्‍यों‍कि फिलहाल हालात ऐसे नहीं हैं।

हालांकि कश्‍मीर में जारी माहौल की वजह से आतंकियों के खिलाफ ऑपरेशंस पर भी थोड़ा असर पड़ा है लेकिन फिर भी सेना सतर्क है। हुड्डा ने बताया कि कश्‍मीर में जारी आतंकियों के खिलाफ ऑपरेशंस में खासा प्रभाव पड़ा है।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Indian Army has appealed for calm and peace to the people of Kashmir. North Army Commander Lt Gen DS Hooda said that everyone needs to step back.
Please Wait while comments are loading...