अब किताबों में छिपा कर नहीं पढ़ना पड़ेगा कॉमिक बुक, जानें क्यों?

एक समय था जब बच्चे किताबों में छिपाकर कॉमिक बुक पढ़ते थे, लेकिन अब ऐसा नहीं करना पड़ेगा। इसके लिए ICSE बोर्ड ने इंतजाम किया है।

Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। अब पढ़ाई करने वाले छात्रों को अपनी कॉमिक बुक, किताबों के भीतर छिपा कर नहीं पढ़ना पड़ेगा। ना ही लेक्चर्स के दौरान डेस्क के नीचे रख कर पढ़ना होगा, ना ही उसके बारें में ज्यादा पढ़ने के लिए स्कूल में साहित्य को खंगालना पड़ेगा।

काउन्सिल ऑफ स्कूल सर्टिफिकेट एग्जामिनेशंस (ICSE) ने फैसला किया है कि अब जूनियर और मिडिल स्कूल के बच्चों के इंग्लिश लिट्रेचर के सिलेबस में जे. के. रोलिंग की हैरी पॉटर भी शामिल होगी।

बिहार बोर्ड स्कैम: रूबी ने 6 पेपर में से सिर्फ 1 की कॉपी खुद से लिखी

harry potter

सिर्फ हैरी पॉटर नहीं

अंग्रेजी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार सिर्फ हैरी पॉटर ही नहीं बल्कि कई अन्य साहित्य बच्चों के सिलेबस में 2017-18 के सत्र से जोड़ा जाएगा।

अब अगस्त केे बजाय जून में होगी UPSC सिविल सेवा प्रारंभिक परीक्षा

बकौल अखबार सिलेबस में तीसरी क्लास से आठवीं क्लास तक के छात्रों के सिलेबस में अमर चित्र कथा से लेकर टिनटिन और एस्टरिक्स के साथ-साथ अमेरिकन कार्टूनिस्ट आर्ट स्पिगलमेन होलोकॉस्ट की कहनी 'मौस' भी शामिल होगा।

हैरी पॉटर के साथ-साथ छात्रों को फेलुडा, प्याओरोट और होम्स भी छात्रों के सिलेबस में शामलि होगा।

बहुत बड़ा बदलाव

गौरतलब है कि ICSE बोर्ड के छात्रों के जीवन में यह बहुत बड़ा बदलाव है, जहां शिक्षक उनकी कॉमिक बुक्स जब्त कर लेते थे।

घाटी में फिर से खुलेंगे स्‍कूल, डोवाल के पास है इसका ब्‍लूप्रिंट

बोर्ड के इस फैसले के बाद इस पर प्रतिक्रियाएं भी आ रही हैं। बारनगर स्थित सेंट्रल मॉडल स्कूल के प्रधानाचार्य नबारुन डे ने कहा कि हम इस फैसले का स्वागत करते हैं। बच्चे अपनी पढ़ाई का आनंद ले सकेंगे।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
ICSE syllabus just became a lot more fun
Please Wait while comments are loading...