रोते—रोते इरोम बोली, बनना चाहती हूं मणिपुर की मुख्यमंत्री

Subscribe to Oneindia Hindi

16 सालों से भूख हड़ताल पर बैठी इरोम शर्मिला ने मंगलवार को अपनी भूख हड़ताल समाप्त कर दी है। इरोम शर्मिला ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि अब मैं राजनीति में हिस्सा लेना चाहती हूं। मुझे मणिपुर की आॅयरन लेडी कहा गया और अब मैं उस नाम को जीना चाहती हूं।

बुलंद इरादे और जिद की पक्की इरोम शर्मिला, पढ़ें संघर्ष के 16 साल की कहानी

irom sharmila

उन्होंने कहा कि मुझे नहीं पता कि कुछ कट्टरपंथी समूह मेरे खिलाफ क्यों हैं। वो नहीं चाहते हैं कि मैं राजनीति करूं। मणिपुर में एएफएसपीए कानून के खिलाफ इरोम शर्मिला पिछले 16 साल से भूख हड़ताल पर थीं।

जानिए विवादित कानून अफस्‍पा के बारे में 10 खास बातें

16 साल बाद अपनी भूख हड़ताल खत्म करते हुए इरोम शर्मिला की आंखों में आंसू आ गए। इरोम ने कहा कि इस क्षण मैं कभी भूल नहीं सकती हूं। उन्होंने कहा कि मणिपुर के लोगों की मदद से मैं यहां की मुख्यमंत्री बनना चाहती हूं।

इरोम ने कहा कि मैं राजनीति के बारे में कुछ भी नहीं जानती हूं ओर शिक्षा के बारे में भी मेरे यही स्थिति है। क्योंकि मेरी शिक्षा बहुत ज्यादा नहीं हुई है। उन्होंने कहा कि यहां को लोगों को मैं समझाने की कोशिश करूंगी। साथ ही इस अफस्पा कानून खत्म को खत्म करने के साथ-साथ सोसायटी के हित में होने वाले हर जरूरी काम को करूंगी।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Irom Sharmila ends her fast after being on fast for the last 16 years demanding repeal of Armed Forces (Special Powers) Act.
Please Wait while comments are loading...