राजनाथ की अलगाववादियों को दो टूक, 'कश्मीर हमारा था, हमारा है और हमारा रहेगा'

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi

श्रीनगर। जम्मू कश्‍मीर में हिंसात्मक तनाव के बीच अलगाववादियों के सर्वदलीय प्रतिनिधिमंडल से बातचीत से इंकार के बाद गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने श्रीनगर में सोमवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस की।

rajnath singh

गृह मंत्री राजनाथ ने कहा कि हर कोई कश्मीर के वर्तमान हालात को लेकर बेहद चिंतित है। हम सभी का एकमत से मानना है कि कश्मीर में चीजों को सुधारने की जरूरत है।

'बातचीत के लिए दरवाजा ही नहीं, हमारा रोशनदान भी खुला है'

उन्होंने कहा कि इस बात में कोई दो राय नहीं है कि कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है, भारत का अभिन्न अंग था और भारत का अभिन्न अंग रहेगा। राजनाथ ने कहा कि बातचीत के लिए हमारा दरवाजा ही नहीं, बल्कि हमारा रोशनदान भी खुला है।

ऑल पार्टी डेलिगेशन के नेता मिलने पहुंचे अलगाववादियों से, हुर्रियत नेताओं ने किया इनकार

अलगाववादियों को कड़ा संदेश देते हुए राजनाथ ने कहा कि अगर कोई कश्मीर में शांति बहाली के लिए बात करने जाता है और वे बात नहीं करते तो स्पष्ट है उन लोगों का इंसानियत, कश्मीरियत और जम्हूरियत में कोई विश्वास नहीं है।

'जम्मू कश्मीर सरकार को हमारा पूरा सहयोग'

उन्होंने कहा कि रविवार को सर्वदलीय प्रतिनिधिमंडल के कुछ सदस्य हुर्रियत के नेताओं ने मिले थे। हम जम्मू कश्मीर में शांति बहाली के लिए यहां की सरकार का पूरा सहयोग कर रहे हैं।

सुप्रीम कोर्ट ने कहा- बहुत चिंतित हैं तो कश्मीर जाएं और इकट्ठा करें प्राथमिक जानकारी

राजनाथ ने बताया कि विशेषज्ञ कमेटी की रिपोर्ट के बाद घाटी में शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए पैलेट गन के बजाए पावा शेल्स के इस्तेमाल की मंजूरी दी गई है।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Home Minister Rajnath Singh address a press conference in Srinagar at monday about all party delegation.
Please Wait while comments are loading...