SC ने कहा- दोबारा नहीं करेंगे हिन्दुत्व की व्याख्या

Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। सर्वोच्च न्यायालय में 7 न्यायधीशों की संवैधानिक पीठ ने फैसला किया है कि फिर से हिन्दुत्व की व्याख्या नहीं करेंगे।

बता दें कि बीते सप्ताह सामाजिक कार्यकर्ता तीस्ता सीतलवाड़ ने एक याचिका के जरिए हिन्दुत्व की दोबारा व्याख्या करने के साथ ही 21 साल पहले 1995 में दिए गए फैसले की समीक्षा करने के लिए कहा था।

court

मुख्य न्यायधीश तीरथ सिंह ठाकुर की अध्यक्षता वाली पीठ ने कहा कि कि अब हम इस बड़ी बहस में नहीं जाएंगे कि हिन्दुत्व क्या है या फिर इसका क्या अर्थ है। हम साल 1995 के फैसले की समीक्षा नहीं करेंगे। साथ ही इस स्तर पर हिन्दुत्व या धर्म की तहकीकात नहीं करेंगे।'

LIVE: मुलायम की प्रेस कांफ्रेंस के बाद अखिलेश समर्थकों की जोरदार नारेबाजी

कहीं नहीं है हिन्दुत्व शब्द का जिक्र

कहा गया कि जिस संदर्भ में यह मुद्दा उठाया गया था, उसके इस स्तर पर आकर हम खुद को सीमित पाते हैं। संदर्भ में कहीं भी हिन्दुत्व शब्द का जिक्र नहीं है। अगर कोई दिखा दे कि संदर्भ कहीं 'हिन्दुत्व' शब्द का जिक्र है तो हम उसे सुनेंगे।

केशव प्रसाद मौर्य बोले, सपा-बसपा दोनों चुनावी रेस से बाहर

7 न्यायधीशों के संवैधानिक पीठ में न्यायधीश एम.बी.लोकुर,एस.ए.बोदबे, ए.के. गोयल, यू.यू. ललित डी वाई चंद्र चूण और एल नागेश्वर राव शामिल थे।

बता दें कि 1995 में कोर्ट ने कहा था कि हिन्दुत्व कोई धर्म नहीं वरन् जीने की शैली है।

शोएब अख्तर ने कर डाली अंग्रेजी की ऐसी-तैसी, बने मजाक के पात्र, वीडियो

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Hindutva verdict: SC not to go into issue of Hinduism
Please Wait while comments are loading...