अब 21 नहीं, बल्कि सिर्फ 6 दिनों में प्रिंटिंग प्रेस से बैंकों तक पहुंचेगा कैश

Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। सरकार ने लोगों को हो रही कैश की दिक्कत को समझते हुए कैश को प्रिंटिंग से लेकर बैंक तक पहुंचाने के समय को 21 दिनों से घटाकर 6 दिन करने की पूरी योजना बना ली है। इसके लिए सरकार ट्रांसपोर्टेशन के सारे तरीके इस्तेमाल कर रही है, जिसमें हेलिकॉप्टर और एयरफोर्स के प्लेन भी शामिल किए गए हैं।

note ban

खुद रिजर्व बैंक ने कहा, नकली नहीं है 10 रुपए का कोई भी सिक्का

सरकार को उम्मीद है कि अगले एक हफ्ते में सारी स्थिति सामान्य हो जाएगी। सरकार न सिर्फ शहरी इलाकों में कैश की समस्या से निपटने की तैयारी में है, बल्कि ग्रामीण इलाकों में भी कैश पहुंचाना सुनिश्चित करने जा रही है।

उच्च सरकारी सूत्रों के अनुसार सभी आर्थिक गतिविधियां 15 जनवरी तक सामान्य हो जाएंगी। 500 और 1000 रुपए के नोट बंद होने से सरकार को जो आय होगी, उसका इस्तेमाल बैंकों के रीकैपिटलाइजेशन, इंफ्रांस्ट्रक्टर बनाने में और सेना के लिए एडवांस वेपन सिस्टम के लिए किया जाएगा।

8 करोड़ का कालाधन 400 खातों में जमा करवा दिया, जानें पूरा सच

9 नवंबर से बंद हैं नोट

आपको बता दें कि सरकार ने 500 और 1000 रुपए के नोटों को 9 नवंबर से बंद कर दिया है और इनके बदले 500 और 2000 रुपए के नए नोट जारी किए हैं। साथ ही अस्पताल, रेलवे स्टेशन, बस स्टेशन, दूध बूथ, पेट्रोल पंप जैसी जगहों पर 24 नवंबर तक पुराने नोट चलाए जाने की छूट दी है।

अस्पताल ने नहीं लिया 500 का नोट, बेटे के शव के साथ घंटों अस्पताल की गेट पर बैठे रहे बूढ़े माँ-बाप

देश के बहुत सारे एटीएम नए नोटों के हिसाब से काम नहीं कर पा रहे हैं, जिसकी वह से अधिकतर एटीएम बंद रहते हैं और जो खुलते हैं उनके सामने लंबी लाइनें लगती हैं।

बैंकों के सामने भी लंबी कतारें लग रही हैं। सरकार ने अपने पुराने नोट प्रतिदिन 2000 रुपए के हिसाब से बदलने के लिए 30 दिसंबर तक का समय दिया है।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
government reduced the time to transport cash to banks
Please Wait while comments are loading...