रूस और यूरोपीय संसद के बाद ये देश आया सर्जिकल स्ट्राइक पर भारत के साथ

Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। सीमा पार जाकर आतंकियों को सबक सिखाने वाले भारतीय सेना के सर्जिकल स्ट्राइक को चहुंओर समर्थन मिल रहा है।

india

दुनिया के तमाम बड़े देश इस स्ट्राइक का समर्थन कर रहे हैं। भारतीय सेना और केंद्र की मोदी सरकार की सर्जिकल स्ट्राइक के लिए पीठ अंतरराष्ट्रीय बिरादरी पीठ तो थपथपा ही रही है साथ ही पाक पर हर ओर से दबाव बढ़ रहा है।

इसरो ने कोरू से किया GSAT 18 का सफल प्रक्षेपण

बता दें कि सबसे पहले रूस और यूरोपीय संसद भारत का समर्थन किया ही था अब इस कड़ी में जर्मनी का नाम भी जुड़ गया है।

हैं दो कानून

भारत में जर्मनी के राजदूत मार्टिन ने सर्जिकल स्ट्राइक पर पूछे गए सवाल के जवाब में कहा कि सीमा पार से आतंकवाद पर दो अंतरराष्ट्रीय कानून हैं।

इस पाकिस्तानी नेता ने माना- भारत के आगे कुछ नहीं है PAK, कमजोर विदेश नीति को बताया वजह

पहला कानून है कि हर राज्य सुनिश्चित करें कि उनके यहां आतंक न पैदा हो साथ ही दूसरा कानून है कि हर देश को वैश्वविक आतंकवाद से अपनी सुरक्षा करने का अधिकार है।

मार्टिन ने कहा कि जब बात आतंक के खिलाफ लड़ाई की होती है तो जर्मनी अपने रणनीतिक साझेदार के साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़ा होता है।

मार्टिन ने आगे कहा कि यह बयान केवल शब्द नहीं है बल्कि भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और जर्मन चांसलर एंजेला मर्केल की ओर से हस्ताक्षरित किए गए राजनीतिक घोषणा पत्र में भी स्पष्ट है।

सिर्फ 15 सेकंड चार्ज करने के बाद 2 किलोमीटर तक चलती है यह गाड़ी

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Germany supports surgical strike done by india in pok
Please Wait while comments are loading...