विदेश सचिव ने माना, पहले भी LOC के पार जाकर सेना ने किए ऑपरेशन

विदेश सचिव एस जयशंकर ने विदेश मंत्रालय की संसद की स्थायी समिति को बताया की भारतीय सेना ने पहले भी एलओसी के पार जाकर आतंकवाद विरोधी ऑपरेशन किए थे। इस बैठक में राहुल गांधी भी मौजूद थे।

Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। हाल ही में रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने कांग्रेस के सभी दावों को दरकिनार करते हुए दावा किया था कि भारत ने पहली बार सर्जिकल स्ट्राइक किया है। मंगलवार हुई संसदीय समिति की बैठक के बाद रक्षा मंत्री का दावा सवालों के घेरे में आ गया है।

jaishankar

विदेश मंत्रालय की तरफ से संसदीय समिति को दी गई जानकारी के अनुसार सेना पहले भी एलओसी के पार गई है और आतंकवाद विरोधी ऑपरेशन करती रही है, लेकिन इस बार का ऑपरेशन उन सभी से अलग था।

अभिनेता ओमपुरी ने जन्‍मदिन पर शहीद नितिन यादव के घर जाकर किया प्रायश्चित, परिजनों से मांगी माफी

कांग्रेस के सत्यव्रत चतुर्वेदी के एक सवाल के जवाब में विदेश सचिव एस जयशंकर ने विदेश मंत्रालय की संसद की स्थायी समिति को बताया कि उरी हमले के बाद किए गए इस ऑपरेशन में ऐसा पहली बार हुआ है जब भारतीय सेना ने पाकिस्तान में घुसकर आतंकी कैंपों को निशाना बनाया है।

एक सूत्र के मुताबिक चतुर्वेदी के जवाब में एस जयशंकर बोले- अगर सवाल ये है कि क्या सेना ने इससे पहले भी एलओसी को पार किया है, तो इसका जवाब 'हां' है। लेकिन अगर सवाल यह है कि क्या इससे पहले भी भारतीय सेना ने पाकिस्तान में घुसकर आतंकी कैंपों को तबाह किया है, तो इसका जवाब है 'ना'।

जम्‍मू-कश्‍मीर में संदिग्‍ध आतंकवादियों के ठिकानों से मिले चीनी झंडे, 44 हिरासत में

जब संसदीय समिति के एक सदस्य ने सर्जिकल स्ट्राइक के सबूत दिखाए जाने की बात कही तो कहा गया कि स्पेशल फोर्स एलओसी के पार सर्जिकल स्ट्राइक करने गई थी, न कि सबूत जमा करने।

सवाल पूछने वालों में कांग्रेस के करन सिंह और सत्यव्रत चतुर्वेदी, सीपीआई(एम) के मोहम्मद सलीम और एनसीपी के डी पी त्रिपाठी थे। हालांकि, इस बैठक में कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी मौजूद थे, लेकिन उन्होंने कोई भी सवाल नहीं पूछा।

मुंबई एयरपोर्ट के पास उड़ता दिखा संदिग्‍ध ड्राेन, हाई अलर्ट पर शहर

आपको बता दें कि मिली जानकारी के अनुसार पूरी बैठक में विदेश सचिव ने इससे पहले हुए ऑपरेशन्स को एक बार भी 'सर्जिकल स्ट्राइक' कहकर नहीं पुकारा। हर बार वे टारगेट स्पेसिफिक और आतंकवाद विरोधी ऑपरेशन कहते रहे।

इस समिति के प्रमुख कांग्रेस के सांसद शशि थरूर थे। इस समिति को सर्जिकल स्ट्राइक के बारे में बताने के लिए विदेश सचिव एस जयशंकर, रक्षा सचिव जी मोहन कुमार, वाइस चीफ ऑफ आर्मी स्टाफ लेफ्टिनेंट जनरल बिपिन रावत और गृह मंत्रालय में विशेष सचिव (आंतरिक सुरक्षा) एम के सिंह मौजूद थे। इस बैठक में बीएसएफ की डायरेक्टर जनरल के के शर्मा भी उपस्थित थे।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
foreign secretary said indian army crossed loc earliar too
Please Wait while comments are loading...