प्राइवेट स्कूलों को सरकार से रियायत, तो पेरेंट्स पर फीस का बोझ क्यों?

Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। बच्चों को अच्छी शिक्षा मिले, ये हर मां-बाप का सपना होता है और इसके लिए वो हर संभव कोशिश भी करते हैं। लेकिन... उन सपनों को झटका तब लगता है, जब प्राइवेट स्कूल मनमाने तरीके से फीस का बोझ मां-बाप के ऊपर लाद देते हैं। पिछले दिनों यूपी के गाजियाबाद जिले में फीस बढ़ोतरी के मुददे पर ऑल स्कूल पेरेंट्स एसोसिएशन ने काफी आंदोलन किया, जो अभी तक जारी है। शुक्रवार को ऑल स्कूल पेरेंट्स एसोसिएशन की टीम वन इंडिया हिंदी न्यूज के ऑफिस पहुंची और इस मुद्दे पर बातचीत की।

school

ऑल स्कूल पेरेंट्स एसोसिएशन की अध्यक्ष शिवानी जैन ने बताया कि सरकार से ट्रस्ट या संस्था के नाम पर रियायत लेने वाले प्राइवेट स्कूल मनमाने तरीके से 25 प्रतिशत तक फीस बढ़ा देते हैं। पेरेंट्स को चूंकि सरकार के नियमों की जानकारी नहीं होती, इसलिए वो फीस बढ़ोतरी का तर्क के साथ विरोध नहीं कर पाते। उन्होंने कहा कि अगर सरकार इस संबंध में पेरेंट्स को जागरूक करे तो समस्या काफी हद तक हल हो सकती है।

एसोसिएशन के सचिव सचिन सोनी ने कहा कि यूपी सरकार जिन नियमों या शर्तों के साथ सीबीएसई को एनओसी देती है, उन नियमों को स्कूल लागू ही नहीं करते। स्कूलों में मिलने वाली सुविधाएं जबरदस्ती पेरेंट्स पर थोपी जाती हैं और उन सुविधाओं के लिए उनसे मोटी फीस वसूली जाती है। उन्होंने कहा कि इस संबंध में एक कड़ी नीति बनाने की आवश्यकता है।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Fees hike issue in private schools.
Please Wait while comments are loading...