ISIS आतंकी से पूछताछ करने के लिए एफबीआई टीम कोलकाता में

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्‍ली। पिछले हफ्ते पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता में आईएसआईएस के ऑपरेटिव मोहम्‍मद मसीउद्दीन मूसा को गिरफ्तार किया गया है। अब इसी मूसी से पूछताछ करने के लिए अमेरिकी जांच एजेंसी एफबीआई कोलकाता में मौजूद है। इकोनॉमिक टाइम्‍स ने इस बारे में जानकारी दी है।

fbi-team-in-kolkata-isis.jpg

पढ़ें-ISISके रेडियो शो में महिलाओं से जुड़े सवालों पर मौलवियों के जवाब

क्‍या अमेरिका को नुकसान पहुंचाने की साजिश

एफबीआई की टीम मूसा से पूछताछ करके इस बात की जानकारी हासिल करना चाहती है कि कहीं आईएसआईएस का कोई प्‍लान अमेरिका को नुकसान पहुंचाने का तो नहीं है।

टीम मूसा से सीरिया में मौजूद आईएसआईएस हैंडलर शफी अरमार उर्फ युसूफ अल हिंदी के बारे में भी जानकारी हासिल करेगी।

अरमार भारतीय मूल का हैंडलर है और पिछले करीब एक वर्ष से सीरिया में आईएसआईएस के लिए भर्ती कर रहा है।

सूत्रों की ओर से दी गई जानकारी के मुताबिक अमेरिकी एजेंसिया अरमार की गतिविधियों पर नजर रखे हुए हैं।

एजेंसियों को शक है कि अरमार अमेरिकी युवाओं को आईएसआईएस के लिए प्रेरित कर रहा है और कुछ युवाओं ने तो आईएसआईएस को ज्‍वॉइन भी कर लिया है।

पढ़ें-रूस को तालिबान के साथ करीबियों पर भारत की चेतावनी

घंटों तक पूछताछ

एजेंसियों को इस बात का भी शक है कि अरमार भारत और दूसरी जगहों पर अमेरिकी संस्‍थानों और नागरिकों को निशाना बनाने की योजना तैयार कर रहा है।

गुरुवार को मूसा से एफबीआई ने काफी घंटों तक पूछताछ की। एफबीआई की सात सदस्‍यों वाली टीम ने भारत की राष्‍ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) से इस पूछताछ से जुड़ी अहम जानकारियों को साझा किया।

एफबीआई अधिकारी मूसा से पूछताछ के बाद इस नतीजे पर पहुंचे कि मूसा एक संभावित सुसाइड बॉम्‍बर है और वह एक बड़ी आतंकी साजिश को अंजाम देने के मकसद की ओर बढ़ रहा था।

एफबीआई की प्रमुख चिंता शफी अरमार है जो कि सीरिया में कहीं है और अमेरिकी नागरिकों और दूसरे विदेशी नागरिकों को निशाना बना सकता है।

पढ़ें-अब जम्मू कश्‍मीर के लिए ISIS की अलग करेंसी! 

लोन वोल्‍फ अटैक की फिराक में अरमार

एफबीआई अधिकारियों ने भारतीय अधिकारियों को यह नहीं बताया कि आखिर ऐसी कौन सी वजह थी जिसके बाद उन्‍हें अरमार के खिलाफ सुबूत मिले और फिर उन्‍हें भारत आना पड़ा।

अधिकारियों के मुताबिक अमेरिकी जांचकर्ता इस बात को लेकर चिंतित हैं कि अरमार अमेरिकियों पर हमला करने के लिए लोन वोल्‍फ बॉम्‍बर्स को तैयार कर रहा है।

पढ़ें-#Flashback2016:पांच वर्षों में घाटी के लिए सबसे खराब साल

कौन है शफी अरमार

शफी अरमार कर्नाटक के भटकल जिले का रहने वाला है और सिमी का पुराना ऑपरेटिव है। वह आईएसआईएस के लिए युसूफ अल-हिंदी के नाम से भारतीयों की भर्ती करता आया है।

मूसा जमात-उल-मुजाहिदीन बांग्‍लादेश (जेएमबी) के नेताओं के करीब है। माना जा रहा है कि ये वही लोग हैं जिन्‍होंने राजधानी ढाका में एक जुलाई को एक कैफे पर हुए आतंकी हमले को अंजाम दिया था।

अरमार ने कर्नाटक, महराष्‍ट्र, केरल और तमिलनाडु में पिछले 18 माह के दौरान कई मॉड्यूल्‍स बना डाले हैं।

पढ़ें- ISIS का कवर हिजबुल तहरीर तैयार कर रहा आतंकी!

श्रीनगर में थी हमले की साजिश

मूसा एक बार चाकू के साथ श्रीनगर पहुंचा था और यहां पर वह विदेशी नागरिकों पर हमले करना चाहता था। एक माह तक मूसा वहां रहा और इस दौरान वह डल झील पर विदेशी नागरिकों की हत्‍या करना चाहता था।

उसकी पत्‍नी उसके साथ थी और वह इस साजिश को अंजाम नहीं दे सका। इसके बाद उसने कोलकाता के मदर टेरेसा सेंटर पर विदेशियों को निशाना बनाने की साजिश रची थी।

मूसा जेएमबी के नेता मोहम्‍मद सुलेमान का भी काफी करीबी है। सुलेमान बीरभूमि के लाबपुर का रहने वाला और वर्ष 2014 में मूसा उसके संपर्क में आया।

देश-दुनिया की तबरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
FBI team from US is in Kolkata to question arrested IS operative Mohammad Masiuddin, alias Musa. Musa was arrested last week.
Please Wait while comments are loading...