चुनाव आयोग की सरकार को फटकार, कहा- 48 घंटे पहले और कैबिनेट सचिवालय के माध्यम से भेजें प्रस्ताव

Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। चुनाव आयोग ने गुरुवार को निर्देश न मानने के लिए सरकार की आलोचना की है। चुनाव आयोग ने कैबिनेट सचिव से कहा है कि इस बात को सुनिश्चित करें कि निर्देशों का पालन करते हुए कैबिनेट के किसी भी प्रस्ताव पर मंजूरी पाने के लिए मंत्रालय आदर्श आचार संहिता की मंजूरी को लेकर सीधे चुनाव आयोग से संपर्क न करे। चुनाव आयोग ने सख्त रुख अपनाते हुए पत्र में कड़े शब्दों में लिखा है कि वह आखिरी समय में मंत्रालय द्वारा मांगी गई मंजूरी पर कोई ध्यान नहीं देगा, क्योंकि इस तरह से चुनाव आयोग पर अनावश्यक दबाव बनता है।

चुनाव आयोग की सरकार को फटकार, कहा- 48 घंटे पहले और कैबिनेट सचिवालय के माध्यम से भेजें प्रस्ताव
 ये भी पढ़ें- यूपी विधानसभा चुनाव 2017: कांग्रेस के 29 उम्‍मीदवारों की लिस्‍ट जारी, अदिति सिंह को रायबरेली से टिकट

चुनाव आयोग की तरफ से कैबिनेट सचिव पीके सिन्हा को लिखे पत्र में कहा है- चुनाव आयोग चाहता है कि चुनाव आयोग को कोई भी प्रस्ताव कम से कम 48 घंटे पहले भेजा जाए। इस समय आदर्श आचार संहिता लागू है और इस बात के निर्देश पहले ही दे दिए गए हैं कि चुनाव आयोग को कोई भी प्रस्ताव सीधे न भेजकर कैबिनेट सचिवालय के जरिए ही भेजा जाए।
ये भी पढ़ें- यूपी चुनाव: बरेली के झुमके को बदनाम कर रहे हैं ये दागी उम्मीदवार
दरअसल, अंतिम समय में प्रस्ताव चुनाव आयोग को भेजे जाने की वजह से आयोग को उस प्रस्ताव पर विचार करने के लिए समय नहीं मिल पा रहा है और अनावश्यक दबाव भी बन रहा है, जिसके चलते चुनाव आयोग ने यह ठोस कदम उठाया है। आयोग ने कहा- इस तरह से आखिरी समय में प्रस्ताव भेजने से उस पर एक दबाव बनता है कि वह अपने आवश्यक कार्य छोड़कर पहले ऐसे कामों को प्राथमिकता दे। आयोग ने कैबिनेट सचिव से यह सुनिश्चित करने को कहा है कि सभी केन्द्रीय मंत्री और विभाग चुनाव आयोग के निर्देशों का पालन करें।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
EC reiterates ministries that cabinet proposals should be routed via Cabinet Secretariat
Please Wait while comments are loading...