समान नागरिक संहिता: अल्पसंख्यकों पर नहीं थोपी जाएगी बहुसंख्यकों की राय

Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। कानून आयोग के अध्यक्ष बीएस चौहान ने समान नागरिक संहिता पर कहा कि बहुसंख्यकों की राय, अल्पसंख्यकों पर थोपी नहीं जाएगी। हम यहां जनता की इच्छा जानने के लिए हैं।

bs chauhan

उन्होंने कहा कि वो ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड पर कोई टिप्पणी नहीं करेंगे। वो संविधान और जनता की जरूरतों के मुताबिक काम करेंगे।

भाजपा ने की मांग, कांशी राम के मौत की हो CBI जांच

चौहान ने कहा कि जनता के बीच में प्रश्नावली रखी गई है। यह सभी धर्मों के लिए है। जब हमें जवाब मिल जाएगा तो हम आगे बढ़ेंगे।

सिविल कोड देश के लिए अच्छा नहीं

इससे पहले मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने समान नागरिक संहिता का विरोध किया है। उनकी ओर से कहा गया था कि यूनिफॉर्म सिविल कोड देश के लिए अच्छा नहीं है।

भोपाल: फैक्ट्री में लगी आग से मचा हड़कंप, काबू पाने की कोशिशें जारी

कहा गया कि देश में कई संस्कृतियां हैं। जिनका सम्मान होना चाहिए।

हमारा राष्ट्र इसका अनुसरण क्यों नहीं करता

लॉ बोर्ड ने कहा कि अमेरिका में हर कोई अपनी पहचान के अनुसार ही अपने-अपने कानून का अनुसरण करता है। इस मामले हमारा राष्ट्र इसका अनुसरण क्यों नहीं करता है?

धोनी की अगुवाई में धर्मशाला जीतने पहुंची टीम इंडिया, तस्वीरें

मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड की ओर से कहा गया कि हमें संविधान के आधार पर कुछ शक्तियां दी हैं। संविधान ने ही हमें अपना धर्म मानने और उसके मुताबिक उनका पालन करने का अधिकार दिया है।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Don't want to impose majority views on minorities,we are here to know the will of the people:Law Commission chairman BS Chauhan
Please Wait while comments are loading...