नोटबंदी: सुप्रीम कोर्ट ने कहा-पूरे इंतजाम नहीं हुए तो सड़क पर हो सकते हैं दंगे

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्‍ली। सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार को नोटबंदी के दौरान देशभर में चल रही बदइंतजामी के लिए फटकार लगाई है। एक सप्‍ताह में ही दूसरी बार सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार से कठिन सवाल पूछे हैं।

नोटबंदी: दो दिन देर से जागा चुनाव आयोग, अब कह रहा नियमों के हिसाब से लगाएं अमिट स्‍याही

demonetisation

अगर हालात नहीं सुधरे तो सड़क पर दंगें हो सकते हैं

सुप्रीम कोर्ट के मुख्‍य न्‍यायाधीश टीएस ठाकुर ने केंद्र सरकार से सवाल करते हुए कहा कि नोटबंदी के बाद देश के हालात गंभीर हैं, अगर हालात नहीं सुधरे तो सड़क पर दंगें हो सकते हैं।

मुख्‍य न्‍यायाधीश ने केंद्र सरकार को फटकार लगाते हुए कहा कि इससे पहले सुनवाई के दौरान आप कहा था कि जल्‍द ही लोगों को राहत पहुंचाएंगे। पर अब तो आप ने नोट बदलने की राशि को ही 2000 रुपए तक सीमित कर दिया है।

कोर्ट ने यह भी पूछा कि क्‍या देश में 100 रुपए के नोट की कमी है। इसके बाद कोर्ट ने केंद्र सरकार ने जानकारी मांगी कि आखिर असल समस्‍या क्‍या है। केंद्र सरकार ने इस पर जवाब देते हुए कहा कि रुपए छापना कोई समस्‍या नहीं है। मुख्‍य समस्‍या है कि लाखों रुपयों को देश भर के बैंकों में पहुंचाना और नए एटीएम को लगाना है।

केंद्र सरकार के नए जजों की नियुक्ति के लिए 43 नाम ठुकराने का प्रस्‍ताव सुप्रीम कोर्ट ने नहीं माना

मुझे अभिव्‍यक्ति की स्‍वतंत्रता है

इस पर वकील कपिल सिब्‍बल ने कहा कि केंद्र सरकार इस समस्‍या से निपटने के लिए तैयार नहीं है। इस पर अटॉर्नी जनरल मुकुल रोहतगी ने कहा कि कपिल सिब्‍बल इस मुद्दे का राजनीतिकरण कर रहे हैं। इस पर सिब्‍बल ने कहा कि मुझे अभिव्‍यक्ति की स्‍वतंत्रता है।

इसी सप्‍ताह टीएस ठाकुर ने 500-1000 रुपए के नोट बैन होने की याचिका पर सुनवाई करते हुए कहा था कि सरकार को लोगों की तकलीफ को ध्‍यान में रखना होगा और पूरे इंतजाम करने होंगे।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Do you want riots on the streets, SC asks centre
Please Wait while comments are loading...