राहुल गांधी निर्णायक फैसले ही नहीं ले पा रहे हैं: दिग्विजय सिंह

दिग्विजय सिंह ने कहा, हम चाहते हैं एक नई कांग्रेस बने और यह काम राहुल गांधी को करना होगा उन्हें कड़े फैसले लेने होंगे और यही पार्टी के लिए बेहतर होगा।

By:
Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। गोवा में इंचार्ज होते हुए सबसे बड़ी पार्टी होने के बावजूद कांग्रेस की सरकार ना बना पाने के बाद पार्टी के भीतर और बाहर चौतरफा आलोचनाओं का शिकार हो रहे दिग्विजय सिंह ने अब राहुल गांधी को फैसला ले सकने में नाकाम बताते हुए उन पर निशाना साधा है। मध्य प्रदेश के पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह ने राहुल गांधी को फैसले ले पाने में कमजोर नेता बताया है।

दिग्विजय सिंह बोले, क्या करना है ये फैसला नहीं ले पाते राहुल गांधी

इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत में दिग्विजय सिंह ने कांग्रेस की लगातार कमजोर होती स्थिति और हालिया चुनावों में उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में पार्टी की हार पर अपनी बात रखी। दिग्विजय सिंह ने कहा कि कांग्रेस में बदलाव की इस वक्त बहुत जरूरत है। उन्होंने कहा कि अब एक नई कांग्रेस चाहिए जिसका एक अलहदा रोडमैप हो और नए अंदाज से कैंपेनिंग हो। दिग्विजय ने कहा कि आज के समय और मध्यम वर्ग की उम्मीदों को ध्यान में रखते हुए कांग्रेस पार्टी को खुद को बदलना होगा।

राहुल निर्णायक रूप से काम नहीं कर रहे: दिग्विजय सिंह
सिंह ने कहा, हम चाहते हैं एक नई कांग्रेस बने और यह काम राहुल गांधी को करना होगा उन्हें कड़े फैसले लेने होंगे। उन्होंने कहा कि मेरी राहुल गांधी से यही शिकायत है कि वह निर्णायक रूप से काम नहीं कर रहे हैं। मैं कई बार उन्हें यह कह भी चुका हूं कि वो फैसले लेने में देर ना करें लेकिन वो इस बात पर मुझसे ही नाराज हो जाते हैं।

दिग्विजय सिंह ने राहुल पर बड़ा हमला बोलते हुए कहा कि 2014 के लोकसभा चुनाव में हार पर के कारण जानने के लिए बनाई एके एंटनी समिति ने 28 फरवरी 2015 को रिपोर्ट सौंपी थी लेकिन अभी तक इसकी सिफारिशें लागू नहीं हो पाई हैं। उन्होंने इसके लिए भी राहुल को ही जिम्मेदार कहा। उन्होंने कहा कि प्रियंका गांधी राजनीति में आएं तो ये पार्टी के लिए बेहतर होगा।
पढ़ें- कांग्रेस छोड़ने वाले पूर्व विधायक ने कहा- दिग्विजय सिंह को अब राजनीति छोड़ देनी चाहिए

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Digvijaya Singh says Rahul Gandhi is not acting decisively
Please Wait while comments are loading...