दिल्ली पुलिस के इस जवान ने किया वो काम, सुनकर आप भी करेंगे सैल्यूट

Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। नोटबंदी के इस दौर में अगर किसी को 50 हजार रुपयों से भरा पर्स मिल जाए तो एक बार शायद उसके मन में भी लालच जाग जाए। वहीं दिल्ली ट्रैफिक पुलिस में सब इंस्पेक्टर मदन सिंह ने एक ऐसी मिसाल पेश की, कि सुनकर आप भी उन्हें सलाम करेंगे। दरअसल 7 जनवरी को दिल्ली निवासी बिजनेसमैन जगप्रीत सिंह का पर्स रास्ते में कहीं गिर गया। उनके पर्स में 50 हजार रुपए, डेबिट-क्रेडिट कार्ड और कुछ आवश्यक आईडी कार्ड थे। जगप्रीत ने पर्स को ढूंढ़ने की काफी कोशिश की लेकिन जब उन्हें पर्स नहीं मिला तो वे उन्होंने उसकी उम्मीद छोड़ दी। हताश और मायूस जगप्रीत घर लौटे ही थे कि अचानक उनके मोबाइल पर अज्ञात नंबर से एक फोन आया।

delhi police दिल्ली पुलिस के इस जवान ने किया वो काम, सुनकर आप भी करेंगे सैल्यूट

परेशान और हताश जगप्रीत ने जब फोन उठाया तो उनके चेहरे पर आश्चर्य से भरी मुस्कुराहट थी। वो फोन था दिल्ली ट्रैफिक पुलिस में सब-इंस्पेक्टर के पद पर तैनात मदन सिंह का। जगप्रीत सिंह को अपने कानों पर विश्वास नहीं हुआ, जब मदन सिंह ने बताया कि आपका पर्स मेरे पास है, बताइए मैं इसे आपको कहां दूं। जगप्रीत सिंह तुरंत अपनी कार से मदन सिंह के पास पहुंचे। मदन सिंह ने उन्हें बताया कि उन्होंने एक साइकिल सवार को इस पर्स को उठाते हुए देखा था। उन्होंने तुरंत साइकिल सवार को रोका और पर्स को अपने कब्जे में लिया। इसके बाद पर्स से विजिटिंग कार्ड लेकर मदन ने जगप्रीत को फोन कर उन्हें पर्स के बार में बताया। ये भी पढ़ें- मेरे पति की मानसिक हालत ठीक नहीं थी तो बॉर्डर पर क्यों भेजा?

नहीं लिया बदले में कोई इनाम

जगप्रीत सिंह हैरान थे क्योंकि उनके पर्स में सारे रुपए और कार्ड वैसे के वैसे ही रखे हुए थे। इसके बाद जगप्रीत ने मदन सिंह को इनाम के तौर पर कुछ रुपए देने चाहे लेकिन खुद्दार सब-इंस्पेक्टर ने इनाम लेने से इंकार कर दिया। मदन सिंह ने जगप्रीत से उनकी एक आईडी मांगी और उसे देखकर उनका पर्स उन्हें लौटा दिया। जगप्रीत ने इस ईमानदार पुलिसवाले को सैल्यूट किया और पूरा मामला मदन की फोटो के साथ फेसबुक पर शेयर किया। जगप्रीत ने लिखा कि आज भी हमारे बीच ऐसे ईमानदार पुलिसवाले हैं जो हर वक्त, हर हालात में हमारी मदद करने को तैयार हैं। जगप्रीत ने दिल्ली पुलिस से भी मदन सिंह की ईमानदारी को सम्मानित करने की अपील की है। पढ़िए उनकी पूरी पोस्ट-

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
delhi traffic police sub inspector shows honesty, returns purse with 50 thousand, refuses to accept any rewards.
Please Wait while comments are loading...