आखों के सामने चिल्लाते हुए मर गई बेटी, कुछ नहीं कर सके पिता, स्ट्रेचर पर लेटे-लेट किया अंतिम संस्कार

सत्येन्द्र सिंह आधे घंटे तक अपनी 26 साल की बेटी के चीखने-चिल्लाने और मदद मांगने की आवाज सुनते रहे, लेकिन चाह कर भी मदद नहीं कर सके।

Subscribe to Oneindia Hindi

भोपाल। हाल ही में कानपुर के पास हुए इंदौर-पटना एक्सप्रेस ट्रेन हादसे में जीवित बचे एक शख्स ने अपनी ऐसी आपबीती सुनाई है कि सुनने वालों का दिल ही दहल गया। इस हादसे में 55 साल के सत्येन्द्र सिंह भी घायल हुए हैं।

train accident

नंबर स्टोरी:आंकड़ों से जानिए कितनी खतरनाक है भारतीय रेलवे?

सत्येन्द्र सिंह आधे घंटे तक अपनी 26 साल की बेटी के चीखने-चिल्लाने और मदद मांगने की आवाज सुनते रहे, लेकिन चाह कर भी मदद नहीं कर सके। दरअसल, वह अपनी बर्थ की स्टील के बुरी तरह से मुड़ जाने के चलते उसी में फंस गए थे।

सत्येन्द्र सिंह की 26 साल की बेटी आधे घंटे तक 'पापा बचाओ... कोई है? प्लीज बचाओ...'। उन्हें पता था कि आसपास ही कहीं उनकी पत्नी भी स्टील में फंसी हुई हैं, लेकिन वह कुछ नहीं कर सकते थे।

कानपुर रेल हादसे की ये छह कहानियां यकीनन रुला देंगी आपको

सांस भी नहीं ले पा रहे थे सिंह

सिंह के बेटे ने बताया कि उनके पिता को तो इस बात का अंदाजा भी नहीं था कि उस बोगी में जिंदा बचने वाले वह अकेले हैं। सिंह बी3 कोच में एक लोअर बर्थ पर थे।

इस घटना में सिंह इतनी बुरी तरह से घायल हो गए ते कि वह अपनी उंगली भी नहीं हिला पा रहे थे। उनका चेहरा स्टील में बुरी तरह से फंस गया था। वह ठीक से सांस भी नहीं ले पा रहे थे।

ट्रेन के मलबे के नीचे 3 घंटे तक दबा था युवक, चिल्लाकर बताया घर का फोन नंबर

स्ट्रेचर पर लेटे-लेटे किया अंतिम संस्कार

उनके हाथ और पैर स्टील में बुरी तरह से फंस गए थे, जिसके चलते वह हिल-डुल भी नहीं पा रहे थे। जब तक बचाव दल ने सिंह की बेटी को निकाला तब तक उसकी मौत हो चुकी थी। सिंह की 54 वर्षीय पत्नी गीता की भी मौत हो चुकी थी।

सिंह को कानपुर से भोपाल लाया गया, जहां पर उन्होंने अपनी पत्नी और बेटी का अंतिम संस्कार स्ट्रेचर पर लेटे-लेटे ही किया। इसके बाद उन्हें वापस अस्पताल ले जाया गया, ताकि उनका इलाज किया जा सके।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
daughter died in front of the his eyes
Please Wait while comments are loading...