कोविंद के लिए किस किस ने मीरा को त्यागा? केजरी की आप में भी सेंधमारी

Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। देश को बतौर रामनाथ कोविंद 14 वां राष्ट्रपति मिल गया है। इस चुनाव में रामनाथ के विपक्ष में पूर्व लोकसभा अध्यक्ष मीरा कुमार थीं। बता दें कि 17 जुलाई को राष्ट्रपति पद के लिए चुनाव हुए थे। इसके साथ ही 20 जुलाई को परिणाम आए। परिणाम लगभग तय थे लेकिन कांग्रेस समेत समूचे विपक्ष के लिए परिणाम वो ज्यादा चौंकाने वाले साबित हुए।

गुजरात में भी क्रास वोटिंग

गुजरात में भी क्रास वोटिंग

बता दें कि गुजरात, गोवा, महाराष्ट्र, पश्चिम बंगाल, त्रिपुरा और दिल्ली में कोविंद के पक्ष में क्रॉस वोटिंग की खबर है। हालांकि असल संकट कांग्रेस के समक्ष गुजरात में है क्योंकि वहां अगले महीने तीन राज्यसभा सीटों के लिए भी चुनाव होने हैं इसके साथ ही इसी साल राज्य में चुनाव भी हैं।

आप में भी सेंधमारी

आप में भी सेंधमारी

माना जा रहा है कि कांग्रेस नेता शंकर सिंह वाघेला के समर्थक विधायकों ने कोविंद के पक्ष में वोटिंग की। बता दें कि राज्य में भारतीय जनता पार्टी के 121 विधायक है और कांग्रेस के 57। जबकि निर्वाचित राष्ट्रपति कोविंद को 132 और मीरा कुमार को 49 वोट मिले। इस हिसाब से कांग्रेस विधायकों के 8 वोट कोविंद को मिले इसके साथ ही दिल्ली में भी आम आदमी पार्टी के कुछ विधायकों ने कोविंद के पक्ष में वोटिंग की।

PM Modi ने President Kovind को खिलाया लडडू । वनइंडिया हिंदी
6 वोट अवैध

6 वोट अवैध

यहां भाजपा के 4, विधायक हैं जबकि कोविंद को 6 वोट मिले और मीरा कुमार को 55। इस हिसाब से यहां भी कोविंद को आप के 2 विधायकों ने वोट किया। दिल्ली के 6 वोट वैध नहीं मिले। बात पश्चिम बंगाल की करें तो यहां कोविंद को 11 और मीरा कुमार को 273 मत मिले। जबकि राज्य में भाजपा और उसके सहयोगी दलों के कुल 6 वोट ही हैं।

यहां कोविंद को मिले 208 वोट

यहां कोविंद को मिले 208 वोट

त्रिपुरा से भी क्रास वोटिंग की खबर हैं। यहां कोविंद को 7 और मीरा कुमार को 53 वोट मिले। जबकि राज्य में भाजपा का एक भी विधायक नहीं है। महाराष्ट्र में भी क्रास वोटिंग हुई। यहां भाजपा और शिवसेना की सरकार के कुल 185 विधायक हैं। कांग्रेस और नेश्नलिस्ट कांग्रेस पार्टी के 83। जबकि कोविंद को यहां 208 और मीरा कुमार को 77 वोट मिले।

यहां भी क्रास वोटिंग

यहां भी क्रास वोटिंग

गोवा में भाजपा गठबंधन की सरकार के 22 विधायक हैं और कांग्रेस के 16 जबकि राज्य से कोविंद के पक्ष में 25 और मीरा कुमार को 11 वोट मिले। कुछ ऐसा ही हाल असम का भी रहा है। यहां भाजपा के 87 विधायक हैं और कांग्रेस के 39। लेकिन कोविंद को यहां से 91 और मीरा कुमार को 39 मत मिले। गौरतलब है कि मौजूदा राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी का कार्यकाल 24 जुलाई को खत्म हो रहा है। रामनाथ कोविंद 25 जुलाई को देश के 14वें राष्ट्रपति के रुप में शपथ लेंगे।

भाजपा का दावा 116 सांसद और विधायक

भाजपा का दावा 116 सांसद और विधायक

गौरतलब है कि परिणाम आने के बाद बीजेपी नेता भूपेंद्र यादव ने एक बायन में कहा कि मैं दूसरे पक्ष के करीब 116 सांसदों और विधायकों को भी धन्यवाद देना चाहूंगा जिन्होंने अपने विवेक से काम लिया और रामनाथ कोविंद के पक्ष में मतदान किया।

ये भी पढ़ें: पिता चुने गए राष्‍ट्रपति तो फूली नहीं समाईं बेटी, ऐसी रही फैमिली की प्रतिक्रिया

देश-दुनिया की तबरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Cross voting in presidential election 2017 in favor of ramnath kovind
Please Wait while comments are loading...