थाने में कांग्रेस कार्यकर्ता के कपड़े उतरवाकर बनाया आपत्तिजनक VIDEO, सोशल मीडिया पर वायरल

मानवाधिकार आयोग के निर्देश पर बठिंडा के तत्कालीन एसएपी ने इंक्वायरी के आदेश दिए थे और 26 मार्च 2016 को रिपोर्ट सौंपी थी, जिसमें पुलिसकर्मियों को क्लीनचिट दे दी गई थी।

Subscribe to Oneindia Hindi

चंडीगढ़। कांग्रेस कार्यकर्ता को थाने में कपड़े उतारने को मजबूर करने का वीडियो सामने आने के बाद दो पुलिसकर्मियों को सस्पेंड कर दिया गया है। फूल पुलिस स्टेशन का यह वीडियो सोशल मीडिया पर काफी तेजी से वायरल हुआ था। बताया जा रहा है कि वीडियो नवंबर 2015 का है। भाईरूपा गांव के धरम सिंह और तीन अन्य को पुलिस ने पंजाब सरकार के मंत्री सिकंदर सिंह मलूका के खिलाफ प्रदर्शन करने से पहले गिरफ्तार किया था।

विरोध के बाद शाम को सस्पेंड हुए दो आरोपी

घटना के विरोध में गांव के लोगों ने विरोध प्रदर्शन शुरू किया और मंगलवार को शिरोमणि अकाली दल के नेताओं और पुलिस के खिलाफ केस दर्ज करने की मांग की। उन्होंने आरोप लगाया कि वीडियो बनाकर उसे सोशल मीडिया पर शेयर करने में भी पुलिस और अकाली नेताओं का हाथ है। विरोध कर रहे लोगों से बठिंडा के एसएसपी स्वपन शर्मा ने मुलाकात की और जरूरी एक्शन लिए जाने का वादा किया। बाद में उन्होंने शाम को हेड कॉन्स्टेबल राम सिंह और कॉन्स्टेबल हरिंदर सिंह को सस्पेंड कर दिया। उन्होंने बताया कि दोनों के खिलाफ केस दर्ज कर लिया गया है। READ ALSO: पहली बार हाईकोर्ट के जज के खिलाफ सुनवाई करेगा सुप्रीम कोर्ट

जबरन उतरवाए कपड़े, बनाया अश्लील वीडियो

पीड़ित कांग्रेस कार्यकर्ता धरम सिंह ने आरोप लगाया कि मंत्री के खिलाफ प्रदर्शन करने से पहले ही उसे और उसके तीन अन्य साथियों को हिरासत में लिया गया था। वे लोग विवादित जमीन को शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी को दिए जाने से नाराज थे और उसी के खिलाफ प्रदर्शन करने वाले थे। रात में चार पुलिसकर्मी उसके घर पहुंचे और फूल के SHO सब इंस्पेक्टर जय सिंह के कमरे में ले गए। उनमें से दो लोग वर्दी में नहीं थे। पीड़ित ने कहा, 'SHO के कमरे में उन्होंने मुझसे कपड़े उतारने को कहा। सादे कपड़ों में मौजूद एक पुलिस वाले ने मुझे निर्वस्त्र करके वीडियो बनाया। उसने अपने मुंह पर कपड़ा बांध रखा था।' READ ALSO: सऊदी अरब ने 39000 पाकिस्तानियों को देश से निकाला

मार्च 2016 में मिली थी पुलिसकर्मियों को क्लीन चिट

पीड़ित धरम सिंह ने आरोप लगाया कि इस घटना के पीछे अकाली दल के नेताओं का हाथ है। धरम ने अपने बेटे के जरिए पंजाब राज्य मानवाधिकार आयोग से भी घटना की शिकायत की थी। आयोग के निर्देश पर बठिंडा के तत्कालीन एसएपी ने इंक्वायरी के आदेश दिए थे और 26 मार्च 2016 को रिपोर्ट सौंपी थी, जिसमें पुलिसकर्मियों को क्लीनचिट दे दी गई थी।

अकाली दल नेता के पोते ने फेसबुक पर डाला वीडियो

कांग्रेस कार्यकर्ता ने आरोप लगाया कि पुलिस ने जांच रिपोर्ट बिना उसका पक्ष जाने ही सौंप दी थी। अब घटना का वीडियो अकाली दल के एक नेता के पोते ने फेसबुक पर अपलोड कर दिया, जिससे मामला एक बार फिर सुर्खियों में आ गया। जिसके बाद उसने एसएसपी से मामले की शिकायत की। फूल SHO जय सिंह ने दावा किया है कि उन्हें इस बात की जानकारी नहीं थी कि उनके ऑफिस में किसी तरह का आपत्तिजनक वीडियो बनाया गया है।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
congress worker stripped at police station in bathinda video goes viral.
Please Wait while comments are loading...