कांग्रेस ने मोदी से पूछा- 'कौन से महल में रहते थे, जो देश को दान कर दिया'

कांग्रेस ने पूछा है कि मोदी ने देश के लिए क्या कुर्बानी दी है?

Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। नोट बैन पर केंद्र की मोदी सरकार हर ओर से घिरती नजर आ रही है। इस मुद्दे पर सभी विपक्षी पार्टियां एकजुट हो गई हैं।

वहीं मंगलवार को एक प्रेसवार्ता में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के प्रवक्ता कपिल सिब्बल ने कहा कि विमुद्रीकरण का यह फैसला कालेधन के खिलाफ लड़ाई लड़ने के लिए नहीं किया गया है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर तीखा हमला करते हुए सिब्बल ने आरोप लगाया कि उन्हें आम आदमी के दुःख की जानकारी नही है।

kapil sibbal

कैसे करें मोदी पर यकीन?

नागपुर में पकड़े गए 1000-500 के नोट, गिनने को मंगानी पड़ी मशीन

उन्होंने यह भी कि पीएम मोदी ने कहा है कि 50 दिनों के भीतर समस्या खत्म हो जाएगी इस पर विश्वास नहीं किया जा सकता क्योंकि इससे पहले भी उनके वादे खोखले साबित हुए हैं।

पत्रकारों से सिब्बल ने कहा कि ये सब कालेधन या भ्रष्टाचार से लड़ने के लिए नहीं किया जा रहा है।

मोदी पर कालेधन वालों से मिले होने का आरोप लगाते हुए सिब्बल ने कहा कि इस फैसले का सामना गरीब लोग कर रहे हैं जिसके कारण बैंक और एटीएम के बाहर, पूरे देश में लाइन लगी हुई है।

सिब्बल ने कहा कि इस विमुद्रीकरण का लक्ष्य है कि बैंकों की गैर निष्पादित परिसंपत्तियों (NPA) खत्म हो जाए।

लोग संघर्ष कर रहे हैं

बकौल सिब्बल मोदी इस बात की कोई समझ नहीं है कि आम आदमी और औरत अपने पैसे बदलवाने या अपने एकाउंट से निकालने के लिए संघर्ष कर रहे हैं।

5000 का नोट बंद करने पर क्‍या बोली पाकिस्‍तान की सरकार

उन्होंने कहा कि मोदी ने- लोगों का मजाक बना कर रख दिया है। इससे दिखता है कि उन्हें लोगों की दिक्कतों से कोई मतलब नहीं है।

कौन से महल में रहते थे मोदी?

पीएम मोदी के बयान पर टिप्पणी करते हुए सिब्बल ने पूछा कि वो कौन से महल में रहते थे जो उन्होंने छोड़ दिया ? कौन सी संपत्ति जनता को दान कर दी? देश के लिए क्या त्याग कर दिया?

गौरतलब है बीते दिनों पीएम मोदी ने कहा था कि उन्होंने देश के लिए सब कुछ त्याग कर दिया। सिब्बल ने आगे कहा कि कृप्या आम लोगों का दर्द समझें। अपनी सनक और कल्पना को बंद करिए।

नोटबंदी पर मचे बवाल के बीच वीरू को क्यों याद आए शहीद हनुमनथप्पा?

सिब्बल ने कहा कि उन्होंने पैसे निकालने पर भी सीमा लगा दी। यह कैसा कानून है? यह मेरा रुपया है , बैंक एकाउंट मेरा है, मेरी कर योग्य आय है। मैं क्यों अपने पैसे नहीं निकाल सकता? ये मोदी का धन नहीं है।

गौरतलब है कि 8 नवंबर को राष्ट्र के नाम दिए संदेश में पीएम मोदी ने इस बात की घोषणा की थी कि 500 और 1,000 के नोट अवैध घोषित कर दिए गए हैं।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Congress says demonetisation no war against black money
Please Wait while comments are loading...