राजनाथ से बोले मौलवी, 'पाक जिंदाबाद के नारे लगाने वालों से बातचीत आखिर क्यों'

Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। मौलवियों के एक प्रतिनिधिमंडल ने केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह से मिलकर कश्मीर में अलगाववादी नेताओं से बातचीत के प्रयासों पर सवाल खड़े किए। उन्होंने कहा कि हुर्रियत नेताओं और पाक जिंदाबाद के नारे लगाने वालों से बातचीत करने की जरूरत ही नहीं थी।

READ ALSO: कश्मीर समस्या पर पीएम मोदी से मिले राजनाथ सिंह, बताई जमीनी हकीकत

cleric

कश्मीर समस्या को लेकर राजनाथ से मिले मौलवी

कश्मीर में जारी हिंसा की स्थिति को लेकर मौलवियों के प्रतिनिधिमंडल ने मंगलवार की शाम को गृह मंत्री राजनाथ सिंह से मुलाकात की। मौलवियों ने कहा कि सर्वप्रतिनिधिमंडल के कुछ सदस्य कश्मीर में अलगाववादियों से मिलने के लिए चले गए, उनको ऐसा नहीं करना चाहिए था।

clerics meet with rajnath

मौलवियों ने राजनाथ सिंह से कहा कि हुर्रियत के लोग पाक जिंदाबाद के नारे लगाते हैं, उनसे बातचीत क्यों होनी चाहिए।

अलगाववादियों ने किया था मिलने से इनकार

चार सितंबर को कश्मीर गए सर्वदलीय प्रतिनिधिमंडल के कुछ सदस्य अलगाववादियों से मिलने चले गए थे। इन सदस्यों में सीपीएम के सीताराम येचुरी, सीपीआई के डी राजा, जदयू के शरद यादव, राजद के जयप्रकाश नारायण शामिल थे। अलगाववादियों ने इन नेताओं से मिलने से इनकार कर दिया था।

राजनाथ सिंह ने दी थी सफाई

अलगाववादियों से मुलाकात करने की कोशिशों पर गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने सफाई देते हुए कहा था कि सर्वप्रतिनिधिमंडल के कुछ नेता हुर्रियत के नेताओं से मिलने गए थे, वह उनका व्यक्तिगत फैसला था। राजनाथ ने कहा कि इस मुलाकात के लिए उन्होंने हां या ना, कुछ भी नहीं किया था।

READ ALSO: राजनाथ की अलगाववादियों को दो टूक, 'कश्मीर हमारा था, हमारा है और हमारा रहेगा'

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
In a meeting with Central Home Minister Rajnath Singh, a group of clerics questioned on the talk efforts with separatist leaders in Kashmir.
Please Wait while comments are loading...