अमेरिका को 1971 में लगा था कि इंदिरा गांधी पीओके पर कब्जे का आदेश दे देंगी: सीआईए

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। हाल ही में अमेरिका की खुफिया एजेंसी सीआईए की तरफ से कुछ दस्तावेज सार्वजनिक किए गए हैं। इन दस्तावेजों से पता चला है कि अमेरिका को 1971 में ऐसा लगा था कि इंदिरा गांधी सेना को पीओके पर कब्जा करने का आदेश भी दे सकती हैं। अमेरिका को यह भी लगा था कि तत्कालीन भारतीय प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी पीओके पर कब्जा करने के लिए पश्चिमी पाकिस्तान पर हमला करने का भी आदेश दे सकती हैं। आपको बता दें कि 1971 में पाकिस्तान के पूर्वी हिस्से को उससे अलग करके बांग्लादेश का निर्माण करने में भारत की अहम भूमिका थी।

अमेरिका को 1971 में लगा था कि इंदिरा गांधी पीओके पर कब्जे का आदेश दे देंगी: सीआईए
ये भी पढ़ें- टीचर ने ट्रंप की तस्वीर पर किया वॉटर गन से हमला, चली गई नौकरी

सीआईए की रिपोर्ट्स और भारत-पाकिस्तान के बीच तनाव को लेकर वाशिंगटन में हुई उच्च स्तरीय बैठकों से यह साफ था कि भारत की तरफ से पश्चिमी पाकिस्तान की सैन्य शक्ति को बर्बाद करने की स्थिति से निपटने के लिए अमेरिका रणनीति तैयार करने में लगा हुआ था। भारत की तरफ से पूर्वी पाकिस्तान में की गई कार्रवाई के बाद पाकिस्तान से रिश्ते बिगड़ने के कारण उस समय के अमेरिकी राष्ट्रपति रिचर्ड निक्सन के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार हेनरी ए. किसिंजर ने उनसे कई संभावनाओं पर चर्चा की थी।

ये भी पढ़ें- तो पाकिस्तान ने अमेरिकी राष्ट्रपति को दिया था धोखा, भारत से पहले बना लिया था परमाणु बम!

हालांकि, वॉशिंगटन में कुछ उच्च अधिकारियों ने इस बात की संभावना जताई थी कि भारत की तरफ से पश्चिमी पाकिस्तान में हमला करने की आशंका काफी कम है। दस्तावेजों के मुताबिक सीआईए के तत्कालीन निदेशक रिचर्ड होम्स ने कहा था कि उन्हें सूचना मिली है कि इंदिरा गांधी पाकिस्तान की हथियार और वायुसेना की क्षमता को खत्म करने की सोच रही थीं। आपको बता दें कि पिछले हफ्ते ही सीआईए ने करीब 20 लाख दस्तावेजों को सार्वजनिक किया था और भारत से जुड़े ये खुलासे करने वाले दस्तावेज भी उसी में शामिल थे।

अमेरिकी राष्ट्रपति ने दी थी चेतावनी

दस्तावेजों के मुताबिक निक्सन ने यह चेतावनी भी दी थी कि अगर पूर्वी पाकिस्तान में युद्ध की स्थिति पैदा होती है तो वह आर्थिक सहायत बंद कर देगा, लेकिन अमेरिकी प्रशासन को यह पता ही नहीं था कि इसे लागू कैसे करना है। वहीं दूसरी ओर किसिंजर इस बात से नाराज थे कि सीआईए के पास इस बारे में कोई जानकारी नहीं है कि आखिर भारत, चीन और पाकिस्तान क्या करने वाले हैं। किसिंजर उस समय के तनाव को कम करने के लिए सोवियत संघ और चीन की मदद लेने को भी तैयार थे।

देश-दुनिया की तबरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
cia reports said america thought india will attack on pok in 1971
Please Wait while comments are loading...