बीएसएफ के जवान तेज बहादुर ने आखिर क्यों उठाई सिस्टम के खिलाफ आवाज, ये है बड़ी वजह

जिसके दादाजी ने नेताजी सुभाष चंद्र बोस की सेना में रहकर अंग्रेजों के खिलाफ लड़ाई लड़ी हो, जिसका एक भाई बीएसएफ और भतीजा भारतीय सेना में हो, वो तेज बहादुर यादव आवाज तो उठाएगा ही।

Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। खराब खाने को लेकर फेसबुक पर वीडियो डालने वाले बीएसएफ के जवान तेज बहादुर यादव की चर्चा आजकल हर किसी की जुबान पर है। जवान के आरोपों पर जहां बीएसएफ के अधिकारियों ने खुद तेज बहादुर को ही कटघरे में खड़ा कर दिया, तो वहीं उनका पूरा परिवार उनके बचाव में उतर आया है। तेज बहादुर ने सिस्टम के खिलाफ आवाज उठाई, जिसकी एक बेहद खास वजह है। सीमा पर देश की सुरक्षा करने के लिए बीएसएफ ज्वॉइन करने वाले तेज बहादुर अपने परिवार के पहले शख्स नहीं हैं। तेज बहादुर यादव सैनिकों के परिवार से आते हैं।

bsf jawan tej bahadur yadav बीएसएफ के जवान तेज बहादुर ने आखिर क्यों उठाई सिस्टम के खिलाफ आवाज, ये है बड़ी वजह

हरियाणा में रहने वाले तेज बहादुर के बड़े भाई हनुमान यादव ने बताया, 'हमारा परिवार एक सैनिकों का परिवार है। तेज बहादुर पांच भाईयों में सबसे छोटे हैं। हमारे एक बड़े भाई भी बीएसएफ की सेवा में हैं। हमारा एक भतीजा भी भारतीय सेना में है। हमारे दादाजी एक स्वतंत्रता सेनानी थे और उन्होंने नेताजी सुभाष चंद्र बोस की सेना में रहकर अंग्रेजों के खिलाफ लड़ाई लड़ी। अगर तेज बहादुर ने कोई मुद्दा उठाया है तो सिर्फ इसलिए, क्योंकि वह चाहता है कि हमारे सिस्टम में सुधार हो।' इसमें गलत तो कुछ भी नहीं है।

आखिर क्या था पूरा मामला

आपको बता दें कि हाल ही में तेज बहादुर यादव ने फेसबुक पर कुछ वीडियो शेयर किए थे। उन्होंने वीडियो के जरिए सेना में जवानों की स्थिति को दिखाने की कोशिश की। वीडियो में उन्होंने बताया कि चंद अफसरों की वजह से उन्हें किस हाल में नौकरी करनी पड़ती है। उन्हें जो खाना मिलता है उसकी क्वालिटी बेहद खराब होती है। सीमा पर तैनाती के दौरान उन्हें न तो ठीक से खाना मिलता है और न ही आराम। तेज बहादुर ने कहा कि भारत सरकार की ओर से उन्हें सभी वस्तुएं भेजी जाती हैं लेकिन अफसर इस सामान को बेच देते हैं। उन्होंने केंद्र सरकार से मामले की जांच कराने की अपील की थी।

अधिकारियों ने कहा, शराब का आदी है तेज बहादुर

इसके बाद गृह मंत्रालय ने इस मामले में जांच के आदेश दे दिए। तेज बहादुर के आरोपों पर बीएसएफ ने कहा कि जवान का अतीत मुश्किलों भरा रहा है। अपने करियर के शुरूआती दिनों से ही उसे रोजाना काउंसलिंग की जरूरत थी। BSF की ओर से जारी किए गए बयान में कहा गया कि वो हमेशा से नियमों का उल्लंघन करता रहा है। वो बिना अनुमति के अनुपस्थित रहता है। इसके अलावा वह बहुत पहले से शराब का सेवन और अपने वरिष्ठ अधिकारियों से दुर्व्यवहार करता रहा है। बीएसएफ ने कहा कि इन्हीं वजहों से इस शख्स ने एक ही विशेष अधिकारी की जिम्मेदारी के तहत हेडक्वार्टर में अपनी सेवाए दी हैं।

'मेरे पति ने जो किया, वो सही किया'

बीएसएफ अधिकारियों के इन आरोपों पर जवान तेज बहादुर की पत्नी ने अपने पति का बचाव किया। उनकी पत्नी शर्मिला ने कहा कि अगर उनके पति की मानसिक हालत सही नहीं थी तो फिर उन्हें बॉर्डर पर क्यों तैनात किया गया था? उनके हाथ में बंदूक क्यों दी गई? शर्मिला ने कहा कि रोटी की मांग करना गलत तो नहीं है। हमें न्याय मिलना चाहिए। उन्होंने कहा कि उनके पति ने जो किया वो सही किया, वही सच है। शर्मिला ने यह भी कहा कि फोन पर हुई बातचीत में उन्होंने बताया कि अधिकारी उन पर शिकायत वापस लेने का दबाव बना रहे हैं। उन्होंने यह भी कहा कि जांच के नाम पर सिर्फ दिखावा किया जा रहा है। ये भी पढ़ें-BSF जवान तेज बहादुर का नया ऑडियो सामने आया, लगाए गंभीर आरोप

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
BSF Jawan Tej Bahadur yadav comes from army family, so he raised voice against system.
Please Wait while comments are loading...