जयललिता के राजनीतिक जीवन के बारे में स्वामी ने किए कई बड़े खुलासे

Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जयललिता का 5 दिसंबर को देर रात निधन हो गया, उनकी लोकप्रियता को पूरे तमिलनाडु में साफ देखा जा सकता है, उनकी अंतिम यात्रा में लाखों लोग उन्हें देखने और विदाई देने के लिए सड़कों पर उमड़ पड़े हैं।

jayalalithaa

बहुत कम लोगों को इस बात की जानकारी होगी कि भाजपा के नेता सुब्रमण्यम स्वामी को अम्मा राष्ट्रपति के तौर पर देखना चाहती थी। खुद स्वामी ने यह बात पत्रकार डीपी स्वामी को एक साक्षात्कार के दौरान बताई थी।

अम्मा की इन 20 योजनाओं के बाद लोगों ने दिया देवी का दर्जा

जयललिता काफी बहादुर महिला थीं
स्वामी बताते हैं कि वह अम्मा से पहली बार 1982 में मिले थे। उस वक्त एमजीआर प्रदेश के मुख्यमंत्री थे, जयललिता ने उसी वक्त राजनीति में कदम रखा था। हम एक दूसरे को 34 साल से जानते थे। वह काफी बुद्धिमान व्यक्ति थी, उनके पास बहुत ज्ञान था। वह एक कद्दावर और बहादुर महिला थी।

शशिकला निभाती थी दुश्मन की भूमिका
जयललिता मेरी बुद्धिमत्ता की बहुत सराहना करती थी, वह मेरी जानकारी और क्षमताओं को सम्मान देती थी। लेकिन शशिकला नटराजन ने मेरे लिए उनके सम्मान को खत्म कर दिया था। शशिकला का जयललिता पर पूरी तरह से नियंत्रण था, जब भी हम करीब आते थे और गठबंधन की ओर बढ़ते थे तो शशिकला उसे नष्ट कर देती थीं। व्यक्तिगत जीवन में जयललिता खुश नहीं थी और वह पूरी तरह से शशिकला के प्रभाव में थीं।

16 मुख्यमंत्री जिनका निधन बतौर सीएम रहते हुआ

1980 के दौर में मैं और जयललिता राज्यसभा के सदस्य थे, उन्होंने एक और दो अच्छे भाषण दिए थे, लेकिन बतौर संसद सदस्य के कार्यकाल के दौरान उनके पास कुछ खास व्यक्तिगत उपलब्धि नहीं थी।

1997 में मेरे घर आई थीं जयललिता
1996 में जब एआईएडीएमके का पतन हुआ तो वह मेरे घर 1997 में आई थी और पार्टी को फिर से खड़ा करने में मेरी मदद मांगी थी। जिसके बाद मैंने उनकी अपील को स्वीकार किया और हमने एक गठबंधन किया। 1998 के लोकसभा चुनाव में मैं मदुरई से जीता, जयललिता ने वाजपेयी सरकार के साथ आने का फैसला लिया

जयललिता ने लिया था वाजपेयी सरकार को गिराने का फैसला
जयललिता चाहती थीं कि वाजपेयी मुझे वित्त मंत्री बनाया जाए, इसपर एशियन एज ने एक लेख भी लिखा था, लेकिन ऐसा हो नहीं सका, जिसकी वजह से जयललिता बहुत दुखी थी, जिस वजह से उन्होंने सरकार गिराने का फैसला लिया था। उन्होंने दरकिनार किया जाना बिल्कुल पसंद नहीं था।

जयललिता मुझसे हमेशा कहती थी वाजपेयी की सरकार की गिराना है, मैंने उनसे ऐसा कुछ भी जल्दबाजी में नहीं करने को कहा, लेकिम मैं कुछ कर नहीं सका। मैंने उनसे कहा था कि अगर वाजपेयी की सरकार गिरती है तो उन्होंने सोनिया से डील करनी पड़ेगी, वह उसके लिए भी तैयार थी। जिसके बाद मैंने जयललिता की की सोनिया से टी पार्टी कराई और वाजपेयी सरकार गिर गई।

सोनिया ने जयललिता को दिया था धोखा
सोनिया गांधी ने जयललिता को धोखा दिया, लेकिन मैं उसकी वजह का खुलासा नहीं करना चाहता हूं। इस फैसले के बाद डीएमके ने एनडीए में शामिल होने का फैसला लिया और जयललिता केंद्र और राज्य में सत्ता से बाहर हो गई थीं। यह उनके लिए बहुत ही खराब अनुभव था। लेकिन 2001 में एक बार फिर से जयललिता सत्ता में आई और तमिलनाडु में सरकार बनाई।

2007 में मेरे पास फिर आईं थीं जयललिता
हमारे बीच कई बार टकराव हुआ क्योंकि शशिकला ने मुझपर कई आरोप लगाया, वह जयललिता को हमेशा मेरे खिलाफ भड़काया करती थीं। 2007 में फिर से जयललिता मेरे पास आई थीं, वह चाहती थीं कि मैं राष्ट्रपति बनूं, लेकिन मैंने इनकार कर दिया था, मैंने कहा था कि मेरे पास हार्वर्ड विश्वविद्यालय में पढ़ाने की जिम्मेदारी है। मैं अपने जीतने को लेकर भी आश्वस्त नहीं था, क्योंकि कई राजनीतिक दल मुझसे घबराते थे।

मुश्किल है ओ पन्नीरसेल्वम के लिए
मुझे लगता है एआईएडीएमके जयललिता के जाने के बाद बिखर जाएगी, ओ पन्नीरसेल्वम सरकार नहीं चला पाएंगे, क्योंकि शशिकला उन्हें आगे बढ़ने नहीं देंगी। एआईएडीएमके के 30 फीसदी विधायक थेवर समुदाय से हैं जिससे पन्नीरसेल्व और शशिकला हैं, जबकि 70 फीसदी लोगे थेलवर समुदाय से नहीं हैं। ऐसे में आने वाले समय में पन्नीरसेल्वम के लिए काफी मुश्किल आने वाली है।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Biggest revelation on Jayalalithaa political career by Subramanian Swamy. He reveals secrets of Jayalalithaa political career.
Please Wait while comments are loading...