ATM में डालने को दिए थे 7 लाख, बैंक अधिकारी लेकर भाग गया

बैंक के एक अधिकारी को बैंक की तरफ से 6.98 लाख रुपए एटीएम में डालने के लिए दिए गए थे, लेकिन वह अधिकारी पैसे लेकर फरार हो गया।

Subscribe to Oneindia Hindi

मोहाली। जहां एक ओर पूरे देश में लोग नोटबंदी की वजह से परेशान होकर एटीएम और बैंकों के बाहर कतार लगाए खड़े हैं, वहीं दूसरी ओर एटीएम तक आने वाले पैसे ही एटीएम में नहीं पहुंच पा रहे हैं।

note

कुछ ऐसा ही हुआ है पंजाब के मोहाली में, जहां बैंक के एक अधिकारी को बैंक की तरफ से 6.98 लाख रुपए एटीएम में डालने के लिए दिए गए थे, लेकिन वह अधिकारी पैसे लेकर फरार हो गया।

जानिए क्‍यों 2000 रुपए का नोट घर में रखना हो सकता है घाटे का सौदा?

यह घटना मोहाली जिले के डेराबस्सी स्थित बंकापुर नाम के एक गांव में हुई है। फिलहाल उस व्यक्ति की तलाश की जा रही है, जो पैसे लेकर भागा है। वहीं दूसरी ओर एटीएम के बाहर लगने वाली लाइनें और अधिक लंबी होती जा रही हैं।

इस बैंक अधिकारी का नाम है तेज प्रताप सिंह भाटिया है, जो पंजाब एंड सिंध बैंक का असिस्टेंट ब्रांच मैनेजर है। उसे यह पैसे 9 नवंबर को दिए गए थे। यह पैसे प्रधानमंत्री द्वारा नोट बैन किए जाने की घोषणा के बाद दिए गए थे।

गोवा में यह आदमी कर रहा है कैश लेने वालों की मदद, जानिए कैसे

इस केस की छानबीन कर रहे डेराबस्सी पुलिस स्टेशन के इंस्पेक्टर दीपेन्दर सिंह ने कहा कि उस बैंक अधिकारी ने इंजीनियर और सुरक्षा अधिकारी को एटीएम पहुंचने के लिए कहा और खुद अपनी गाड़ी से आने की बात की।

इंजीनियर और सुरक्षा अधिकारी ने एटीएम पर पहुंचकर काफी देर तक भाटिया का इंतजार किया। जब बहुत देर बाद भी भाटिया वहां नहीं पहुंचा तो उन्होंने इसकी सूचना बैंक के ब्रांच मैनेजर को दी।

पकड़ा गया स्क्रैप डीलर, 50 लाख के पुराने नोट से खरीदने आया था सोना

ब्रांच मैनेजर ने कई बार उसका फोन लगाया लेकिन नंबर स्विच ऑफ बता रहा था। ब्रांच मैनेजर ने भाटिया का 10 नवंबर तक इंतजार किया, लेकिव जब उसके बाद भी वह नहीं आया तो इसकी शिकायत डेराबस्सी पुलिस थाने में की गई।

डेराबस्सी पुलिस थाने के इंस्पेक्टर दीपेन्दर सिंह के मुताबिक इस मामले की जांच शुरू कर दी गई है और जल्द ही उस बैंक अधिकारी को पकड़ लिया जाएगा, जो पैसे लेकर भागा है।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
bank official flee with seven lakh rupees
Please Wait while comments are loading...