नोटबंदी के बाद आपने तो नहीं खुलवाया खाता, पढ़ लें ये खबर

पिछले एक महीने में जिन लोगों ने भी पहली बार सेविंग और करेंट अकाउंट्स खुलवाएं हैं उनकी जांच जा रही है।

Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। नोटबंदी के बाद से आम लोगों की परेशानी बढ़ी हुई है। इस बीच ऐसी जानकारी मिल रही है कि सरकार पिछले एक महीने के दौरान खुलवाए गए बैंक अकाउंट और लॉकर्स की निगरानी कर रही है।

bank

पिछले एक महीने के दौरान खुलवाए गए खातों पर है सरकार की नजर

सरकार की नजर इन बैंक अकाउंट में होने वाले ट्रांजेक्शन की स्थिति पर है। इस प्रक्रिया में जिन लोगों ने भी पहली बार सेविंग और करेंट अकाउंट्स खुलवाएं हैं उनकी जांच जा रही है। इसमें एक अकाउंट से दूसरे अकाउंट में किया गया वित्तीय लेन-देन भी शामिल है।

नरेंद्र मोदी सरकार की नोटबंदी पर सुप्रीम कोर्ट ने पूछे ये 9 अहम सवाल

इस मुद्दे पर एचटी से बातचीत में सरकार से जुड़े एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि इस बात की संभावना है कि नोटबंदी के बाद खुलवाए गए बैंक अकाउंट से लोग बेहिसाब नकदी को ठिकाने लगाने की कोशिश कर सकते हैं। ऐसे में सरकार इन अकाउंट में होने वाले लेन-देन पर नजर रखने की कोशिश कर रही है।

आयकर विभाग लगातार देशभर में छापेमारी कर रहा है। इस दौरान कई जगहों से बेहिसाब संपत्ति मिली है। इसमें 500 और 1000 रुपये के नोट भी भारी संख्या बरामद हुए हैं।

अकाउंट में होने वाले लेन-देन की निगरानी कर रही सरकार

सेंट्रल बोर्ड ऑफ डायरेक्ट टैक्सेस (सीबीडीटी) के चेयरमैन सुशील चंद्रा ने बताया कि विभाग लगातार मामले की जानकारी ले रहा है।

सुप्रीम कोर्ट ने सरकार से पूछा, आखिर कुछ लोगों के पास लाखों के नए नोट कहां से आ रहे हैं

उन्होंने बताया कि हम मिल रही जानकारी के मुताबिक लगातार जांच और छापेमारी की कार्रवाई कर रहे हैं। हम अपनी निगरानी को तेजी से आगे बढ़ा रहे हैं।

एक बैंक अधिकारी ने बताया कि प्रधानमंत्री जनधन योजना के तहत खुलवाए गए खातों की भी निगरानी की जा रही है जिससे पता चल सके कि कहीं काला धन इसमें तो नहीं खपाया जा रहा है। आयकर विभाग ने इस दौरान कई संदिग्ध जमा खातों की जानकारी दी है जिन्हें जन धन अकाउंट में जमा कराया गया है।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Bank accounts opened last one month, will be monitored closely.
Please Wait while comments are loading...