PAK कलाकारों पर बैन जरूरी, गोलाबारी और नाच-गाना साथ संभव नहीं

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। उरी आतंकी हमले के बाद पूरा देश इस समय पाकिस्तान के खिलाफ आग उगल रहा है, मनसे की ओर से पाक कलाकारों को बैन किए जाने वाली बात को देश के कई लोगों ने सही ठहराया है और इस मसले पर अब मनसे की घोर विरोधी पार्टी शिवसेना भी उसके साथ हो गई है।

क्यों मनाते हैं 'दिवाली', क्या है इसका 'अर्थ' और 'महत्व'?

न्यूज चैनल आज तक के एक खास कार्यक्रम में बात करते हुए शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे के बेटे और युवा सेना के प्रमुख आदित्य ठाकरे ने पाकिस्तानी कलाकारों के बैन को सही ठहराते हुए कहा कि सरहद पर गोली चले और पर्दे पर हमारे सितारे पाक कलाकारों के साथ नाचे-गाएं तो ये एक साथ संभव नहीं है।

ओमपुरी...पर्दे का नायक असल में क्यों बन गया खलनायक?

इसलिए संबंध सुधरने तक कलाकारों पर बैन लगा रहना चाहिए क्योंकि आतंकवाद का खात्मा किए बगैर पड़ोसी मुल्क से बेहतर रिश्ते नहीं हो सकते है।

दिल्‍लीवालों, पाक कलाकारों पर बैन लेकिन पाकिस्‍तानी चीजों पर क्‍यों नहीं?

जब वो नफरत की भाषा समझते हैं तो यही सही, हमने प्यार की भाषा बोली लेकिन वो सुधर नहीं रहे तो ऐसे में पाकिस्तान से हर तरह का रिश्ता तोड़ लेना ही सही है और मेरी नजर में पाकिस्तानी कलाकारों के साथ हमें बिल्कुल काम नहीं करना चाहिए।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Yuva Sena chief Aditya Thackeray today said that the ban on Pakistan artists was justified and that his party supported the ideology of BJP.
Please Wait while comments are loading...