कश्मीर हिंसा: पैलेट गन की जगह इस्तेमाल हो सकते हैं मिर्च से भरे गोले, गृह मंत्रालय पहुंची रिपोर्ट

Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। कश्मीर हिंसा में उपद्रवियों को शांत करने के लिए इस्तेमाल की जा रही पैलेट का विकल्प तलाश लिया गया है। इसके साथ ही सुरक्षाबलों के पास से पैलेट गन की विदाई भी जल्द हो सकती है। पैलेट गन की जगह अब मिर्च से भरे 'पावा शेल्स' का इस्तेमाल किया जा सकता है।

kashmir

केंद्रीय गृह मंत्रालय की ओर से बनाई गई विशेषज्ञ कमेटी ने मिर्च पाउडर से बने 'पावा गोलों' को पैलेट गन के विकल्प के तौर पर सुझाया है। यह पैलेट गन की तुलना में कम घातक है। इसके इस्तेमाल से प्रदर्शनकारी थोड़ी देर के लिए निष्क्रिय स्थिति में पहुंच जाएगा।

पढ़ें: राजनाथ सिंह बोले- कश्मीर हिंसा भड़काने वालों की पहचान हुई, महबूबा बोलीं- गरीबों के बच्चे मारे गए

आंसू गैस के गोलों को और असरदार बनाने का सुझाव
कमेटी ने गृह मंत्रालय को कहा कि पैलेट गन की जगह पावा गोलों और कैप्सिकम गैस का इस्तेमाल किया जाए. साथ ही आंसू गैस के गोलों को और असरदार बनाया जाए, इससे शारीरिक तौर पर कोई जख्मी नहीं होगा।

सुरक्षाबल इस विकल्प से असंतुष्ट
इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक, सीआरपीएफ के एक अधिकारी ने इस विकल्प पर असंतुष्टि जताई है। उन्होंने कहा कि ऐसे विकल्प पहले भी टेस्ट किए जा चुके हैं, लेकिन पैलेट गन की तरह कोई असरदार नहीं है। ये विकल्प भीड़ नियंत्रण के लिए असरदार नहीं रहे।

पढ़ें: तीन माह पहले ही हो चुकी थी कश्‍मीर का माहौल बिगाड़ने की साजिश

बता दें कि कश्मीर घाटी में जारी हिंसा में अब तक दो हजार से ज्यादा लोग घायल हो चुके हैं। जिसके बाद पैलेट गन के इस्तेमाल पर रोक लगाने की मांग उठी है।

 
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Balls of pepper and capsicum gas to replace pellets gun in Kashmir suggests panel to ministry of home affairs.
Please Wait while comments are loading...