लोढ़ा कमेटी मामले में सुप्रीम कोर्ट ने कहा- अनुराग ठाकुर को जाना चाहिए जेल

एमिकस क्यूरी ने कहा कि अनुराग ठाकुर ने इस मामले में झूठ बोला है। बीसीसीआई प्रमुख अनुराग ठाकुर ने सुप्रीम कोर्ट में दिए गए हलफनामे में गलत जानकारी दी थी।

Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। लोढ़ा कमेटी की सिफारिशें लागू करने में बीसीसीआई की ओर से ऐतराज किए जाने के मामले में अनुराग ठाकुर की मुश्किलें बढ़ सकती हैं। सुप्रीम कोर्ट ने केस की सुनवाई के दौरान एमिकस क्यूरी से सवाल किया था कि क्या बीसीसीआई प्रमुख ने इस मामले में झूठ बोला है? इसका जवाब अनुराग ठाकुर के खिलाफ है।

anurag thakur

एमिकस क्यूरी ने कहा कि अनुराग ठाकुर ने इस मामले में झूठ बोला है। बीसीसीआई प्रमुख अनुराग ठाकुर ने सुप्रीम कोर्ट में दिए गए हलफनामे में कहा था कि उन्होंने शशांक मनोहर से बतौर बीसीसीआई चेयरमैन राय मांगी थी। जबकि एमिकस क्यूरी ने अपने जवाब में बताया कि शशांक मनोहर इस बात से साफ मना कर चुके हैं।

संसद न चलने से लालकृष्ण आडवाणी फिर नाराज, गुस्से में कह गए ये बात

अनुराग ठाकुर पर आरोप है कि वह लोढ़ा कमेटी की सिफारिशें लागू करने की प्रक्रिया में बाधा डाल रहे थे। शशांक मनोहर की ओर से दिए गए हलफनामे के मुताबिक, अनुराग ठाकुर ने उनसे कोई सलाह नहीं मांगी।

'आरोपों से बचना है तो मांगें माफी'
सुप्रीम कोर्ट ने अनुराग ठाकुर से सवाल किया कि वह कोर्ट को भ्रमित क्यों कर रहे हैं। अगर वह झूठे बयान पर आरोपों से बचना चाहते हैं तो माफी मांग लें। कोर्ट ने कहा, 'आपने हर स्तर पर प्रक्रिया में बाधा डालने की कोशिश की है। 70 साल की उम्र पार होने के बाद भी हर शख्स संस्था में पद पाने की इच्छा रखता है।'

धर्म परिवर्तन की वजह से बेटे की हत्या, विरोध में मातम के बीच मां ने कबूला इस्लाम

कोर्ट ने यह भी कहा कि अभिव्यक्ति की आजादी कोर्ट के आदेश से असहमति की छूट देती है लेकिन इसकी प्रक्रिया में बाधा डालना सरासर गलत है। अगर आप अपने किए पर अड़े रहते हैं तो आपको जेल जाना चाहिए।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
At every stage you have been trying to obstruct says supreme court to anurag thakur.
Please Wait while comments are loading...