अरुण जेटली बोले-रेलवे जरूरी कामों के लिए करेगा आउटसोर्टिंग

देश के वित्‍त मंत्री अरुण जेटली ने साफ कर दिया है कि रेलवे हॉस्पिलिटी और कैटरिंग जैसी सेवाओं के लिए आउटसोर्सिंग पर सरकार का जोर रहेगा।

Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्‍ली। देश के वित्‍त मंत्री अरुण जेटली ने साफ कर दिया है कि रेलवे हॉस्पिलिटी और कैटरिंग जैसी सेवाओं के लिए आउटसोर्सिंग पर सरकार का जोर रहेगा।

indian railway

साथ ही उन्‍होंने कहा कि रेलवे में सर्विस चाहने वाले लोगों को इसके लिए तैयार रहना चाहिए। उन्‍होंने कहा कि रेलवे को खुद मजबूत करना होगा नहीं तो वो यात्री और गुड्स ट्रांसपोर्ट के क्षेत्र रोड ट्रांसपोर्ट और विमानन क्षेत्र से पीछे रह जाएगा।

ये भी पढ़े: कालेधन को लेकर 72 घंटें में सरकार को आए 4000 ईमेल

उन्‍होंने साफ किया कि रेलवे का काम रेल चलाना और सेवाएं देना है। रेलवे का काम हॉस्पिलिटी का नहीं है। ऐसे में सरकार को इसके लिए ऐसी सुविधाओं को देने के लिए आउटसोर्सिंग करनी होगी। उन्‍होंने दावा किया कि पूरी दुनिया में आज आउटसोर्सिंग की जा रही है।

ये भी पढ़े: तो क्‍या सचमुच 4 लाख रुपए तक की इनकम टैक्‍स फ्री हो जाएगी?

उन्‍होंने कहा कि पिछले सालों के दौरान रेलवे सिर्फ लोगों को लुभाने के लिए योजना करती रही। हर साल सिर्फ यहीं जानना चाहते थे कि इस बार कितनी नई ट्रेनों की घोषणा की गई। उन्‍होंने कहा कि रेलवे को ऐसे एकाउंट बनाने होंगे जो ये वास्तविकता दर्शाने वाले होने चाहिए।

उन्‍होंने कहा कि केंद्र सरकार ने सरकार ने इस साल सितंबर में 92 साल से चली आ रही रेल बजट को अलग पेश करने की परंपरा को समाप्त करने की घोषणा की। वित्त वर्ष 2017-18 के आम बजट में रेल बजट को मिलाने का फैसला किया गया है।

ये भी पढ़े: छोटे कारोबारियों को सरकार ने दी राहत, रखी एक खास शर्त

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
arun jaitley bats for outsourcing of railways non-core functions
Please Wait while comments are loading...