नोटबंदी से बड़ी मछलियों को कोई परेशानी नहीं, आम जनता त्रस्त : केजरीवाल

सरकार को लाइन में खड़े लोगों की परेशानी नहीं दिखती, जिसके घर में बेटी की शादी है, उनके पिता को हार्ट अर्टक आ रहे हैं।

By:
Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। नोटबंदी को लेकर दिल्ली के मुख्ममंत्री अरविंद केजरीवाल ने केंद्र सरकार और पीएम मोदी के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। कभी वो घोटाले का खुलासा करते हैं तो कभी रैली कर विरोध करने की बात। इस बीच एक टीवी चैनल से इंटरव्यू ने कहा कि सरकार द्वरा नोटबंदी से भ्रष्टाचार नहीं रुकेगा। जिनके पास कालाधन है उनके घर नए नोट पहुंच जा रहे हैं। केजरीवाल ने कहा कि इस नोटबंदी से बड़ी कोई परेशानी नहीं, आम आदमी परेशान है।

 arvind kejriwal

केजरीवाल ने कहा कि सरकार को लाइन में खड़े लोगों की परेशानी नहीं दिखती, जिसके घर में बेटियों की शादी है, उनके पिता को हार्ट अर्टक आ रहे हैं। केजरीवाल ने कहा कि इस से भ्रष्टाचार खत्म नहीं होगा। उन्होंने नोटबंदी को स्‍वतंत्र भारत का यह सबसे बड़ा घोटाला बताया। उन्होंने कहा कि नोटबंदी में 800000 करोड़ का घोटाला हुआ है।

नोटबंदी से हो रही समस्या से निपटने के लिए चंद्रबाबू नायडू केंद्र से मांगे 10000 करोड़ रु.

केजरीवाल ने मोदी सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि नोटबंदी से तीन दिन पहले ही 63 अरबपतियों के 6 हजार करोड़ रुपये माफ कर किए दिए। उन्होंने कहा कि अगर सरकार को भ्रष्टाचार खत्म करना है तो पहले राजनीतिक पार्टियां अपना काला धन घोषित करें। भाजपा लोकसभा चुनाव में खर्च किए गए 1000 करोड़ का हिसाब दें।

आतंकियों और माफियाओं से PM मोदी की जान को खतरा: बाबा रामदेव

केजरीवाल ने कहा कि नोटबंदी की वजह से जो 55 लोगों ने अपनी जान गंवाई उसका जिम्मेदार कौन है?उन्होंने कहा कि जनता परेशान है और बड़े लोग अपने घरों में आराम फरमा रहे हैं। केजरीवाल ने मोदी सरकार से सवाल किया कि 500-1000 के नोट बंद करके और 2000 का नोट लाकर सरकार भ्रष्टाचार कैसे खत्म करेगी? उन्होंने कहा कि जब भी मोदी जी ने अच्छा काम किया हम हमेशा उनके साथ थे। उन्होंने सर्जिकल स्ट्राइक की हमने उन्हें सलाम किया। उन्होंने योगा को प्रोत्साहित किया हमने उनका साथ दिया, लेकिन इस बार हम उनके साथ नहीं, क्योंकि उनकी नीयत साफ नहीं है।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Arvind Kejriwal, among the most voluble critics of the ban on 500 and 1,000 rupee notes, has said "it is anti-national to support demonetisation in (its) current form."
Please Wait while comments are loading...