इन 5 लाख लोगों की मुश्किलें आसान करेगा आधार कार्ड, पीएफ नंबर की जगह होगा इस्तेमाल

Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। बैंक अकाउंट हो, गैस सब्सिडी से लेकर मनरेगा तक में आधार कार्ड को जरूरी बनाया जा रहा है। इसी कड़ी में कोयला खदानों में काम करने वाले करीब पांच लाख कामगारों के लिए आधार कार्ड नया फायदा बनने वाला है। कोल इंडिया लिमिटेड (CIL) ने इसे लेकर बड़ा फैसला लिया है।

Aadhar Card

अधिकारियों के मुताबिक, यहां काम करने वाले लोगों के पीएफ अकाउंट से आधार कार्ड नंबर को जोड़ा जाएगा और यही उऩका पीएफ नंबर होगा। सीआईएल के सभी संघटकों के निदेशकों, कोल माइन्स प्रॉविडेंट फंड ऑर्गेनाइजेशंन (CMPFO) कमिश्नर बीके पंडा और CMPFO के सभी क्षेत्रीय कार्यालयों के प्रमुखों की पुरी में हुई बैठक में यह फैसला लिया गया है।

पढ़ें: आधार कार्ड के बिना अब नहीं मिलेंगी ये सुविधाएं

इस दिन से लागू होगा फैसला
महानदी कोल फील्ड्स लिमिटेड के डायरेक्टर (पर्सनल) एलएन मिश्रा ने कहा, 'बैठक में यह फैसला लिया गया है कि आधार नंबर को कोल माइन्स में काम करने वाले लोगों का पीएफ नंबर माना जाएगा। यह प्रस्ताव 25 दिसंबर 2016 से लागू होगा। यह दिन गुड गवर्नेंस डे के रूप में मनाया जाता है। '

पढ़ें: सपा की कलह पर पहली बार मुलायम सिंह यादव ने तोड़ी चुप्पी

उन्होंने कहा कि कोयला इंडस्टी में बहुत से लोग ठेकेदारों के जरिए काम करने आते हैं और बहुत से लोग असंगठित सेक्टर से होते हैं, इस फैसले से सभी को फायदा होगा।

SMS से भी मिल सकेगी जानकारी
मीटिंग में यह भी फैसला लिया गया है कि कोयला खदानों में काम करने वाले लोगों का डाटा तैयार किया जाएगा और एक वेबसाइट बनाई जाएगी जिस पर वे आधार नंबर के जरिए CMPFO पर जाकर अपने पीएफ, पेंशन और एप्लीकेशन स्टेटस की जानकारी ले सकेंगे। इसके अलावा CMPFO ने एसएमएस के जरिए भी पीएफ बैलेंस, पेंशन पेमेंट की जानकारी देने की योजना बनाई है।

पढ़ें: CM अखिलेश यादव का हर दांव फेल, शिवपाल ने जीता सियासी 'दंगल'

मिश्रा ने बताया कि अकेले सीआईएल में करीब 3.5 लाख कर्मचारी हैं। यह फैसला करीब 5 लाख कर्मचारियों, खासकर कॉन्ट्रेक्ट बेसिस पर रखे जाने वाले कर्मचारियों को लाभ पहुंचाएगा।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
in a step aimed to benefit over 5 lakh coal mines workers across the country, Aadhaar number would now be linked to their provident fund and treated as the PF number.
Please Wait while comments are loading...