भोपाल जेल से फरार 8 आतंकी मारे गए, पढ़िए कब क्या हुआ

Subscribe to Oneindia Hindi

भोपाल। रविवार रात को भोपाल की सेन्ट्रल जेल से 8 आतंकी फरार हो गए हैं। इन्होंने भागने से पहले एक हेड कॉन्स्टेबल की हत्या भी कर दी है। यह आठों आतंकी प्रतिबंधित स्टूडेंट्स इस्लामिक मूवमेंट ऑफ इंडिया (सिमी) संगठन के हैं।

bhoapl central jail

आयरन लेडी 'इंदिरा' के सीने में दागी गई थीं 31 गोलियां, चढ़ा था 88 बोतल खून

इन आतंकियों ने रात करीब 2 बजे हेड कॉन्स्टेबल रामा शंकर की हत्या की। हत्या के लिए आतंकियों ने चाकू का सहारा लिया और उससे रामा शंकर का गला काट दिया।

हेड कॉन्स्टेबल की हत्या के बाद आतंकियों ने चादरों को आपस में जोड़कर रस्सी जैसा बनाया और जेल की चारदीवारी फांद ली। अपनी इस योजना का अंजाम देने के लिए आतंकियों ने दिवाली की रात चुनी।

आतंकियों ने दिवाली की रात को इसलिए चुना क्योंकि इस रात में लोग दिवाली उत्सव के चलते पटाखे बजा रहे थे और पटाखों के शोर में उनके भागने की आहट किसी को सुनाई न दे।

कश्मीर में फिर लगाई गई स्कूल में आग, धधक-धधक कर जल उठी बिल्डिंग

फरार हुए आठों आतंकियों पर देशद्रोह का मामला चल रहा था। मध्य प्रदेश के गृहमंत्री भूपेन्द्र सिंह ने कहा कि इस मामले की छानबीन की जाएगी कि आखिर वो भागने में कामयाब कैसे हो सके।

उन्होंने इन आठों आतंकियों के भागे जाने के बाद पूरे प्रदेश में अलर्ट जारी कर दिया है। देश के अन्य राज्यों को भी इसकी सूचना दे दी गई है।

माना जा रहा है कि ये किसी बड़े हमले को अंजाम देने के लिए भी भागे हो सकते हैं। पूरे प्रदेश में पुलिस जगह-जगह इन आतंकियों की तलाश कर रही है।

इटली में 7.1 भूकंप की तीव्रता से भारी तबाही, कई ऐतिहासिक इमारतें जमींदोज

यह दूसरी बार है कि मध्य प्रदेश में ऐसी घटना हुई है। इससे पहले भी एक बार सिमी के 10 आतंकी भोपाल जेल से फरार हो गए थे। इनमें से 5 को तुरंत ही गिरफ्तार कर लिया गया था, लेकिन बाकी के 5 आतंकी भागने में सफल रहे थे।

स्टूडेंट्स इस्लामिक मूवमेंट ऑफ इंडिया या सिमी एक प्रतिबंधित संगठन है, जिसकी शुरुआत 1977 में उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ में हुई थी।

इस मामले पर देश के गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज चौहान से एक रिपोर्ट मांगी है। वहीं भोपाल सेन्ट्रल जेल के डायरेक्टर जनरल संजय चौधरी ने बताया कि आठों आतंकियों ने भागने से पहले एक सुरक्षा अधिकारी को मारने के साथ ही एक अन्य को घायल भी कर दिया।

संजय चौधरी के अनुसार अतिरिक्ति डायरेक्टर जनरल को सुरक्षा में हुई खामियों की छानबीन करने के आदेश दिया जा चुके हैं। साथ ही, जेल के अन्य कैदियों की सुरक्षा और अधिक कड़ी कर दी गई है।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि भागे हुए आतंकियों की तलाश जारी है और इस मामले में 4 जेल अधिकारियों को सस्पेंड कर दिया गया है। उन्होंने बताया कि जेल के एडीजी को पहले ही हटा दिया गया है और डीआईजी को भी सस्पेंड किया जा रहा है।

एएनआई न्यूज के अनुसार पुलिस ने आठों आतंकियों को मार गिराया है। इनका एनकाउंटर भोपाल के बाहरी हिस्से में स्थित इंतखेड़ी गांव में मारे गए हैं।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
8 simi terrorists fle from bhopal central jail
Please Wait while comments are loading...