जैन धर्मगुरू बोले, 13 साल की आराधना को पता थी अपनी शक्तियां, तभी रखा 68 दिन का व्रत

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi

हैदराबाद। लगातार 68 दिन तक व्रत रखने के बाद 13 साल की आराधना की मौत पर जैन धर्मगुरू खुलकर लड़की के परिजनों के समर्थन में उतर गए हैं। उन्होंने कहा कि अराधना ने मर्जी से व्रत किया लेकिन उनके धर्म को बदनाम किया जा रहा है।

aradhna

जैन समुदाय से ताल्लुक रखने वाली हैदराबाद की आराधना की लगातार 68 दिन तक उपवास करने के बाद पिछले 4 अक्टूबर को मौत हो गई थी। दो दिन पहले ही उसने अपना 68 दिन लंबा व्रत पूर किया था।

आराधना 68 दिन तक सिर्फ उबला हुआ पानी पीती रही थी। व्रत पूरा करने के बाद उसकी तबीयत बिगड़ गई। उसे अस्पताल ले जाया गया, जहां उसे डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया।

राष्ट्रपति बनने की बात पर पहली बार बोले अमिताभ बच्चन

डॉक्टरों के मुताबिक लगातार व्रत से उसके शरीर के अंदरुनी हिस्से में कई शिकायत हो गईं थीं। उसकी दोनों किडनी बुरी तरह से खराब हो गईं और खाना नहीं खाने से आंतें सूख चुकी थीं।

आराधना की मौत के बाद कई संगठनों ने 13 साल की बच्ची से 68 दिन के उपवास पर सवाल उठाया था। कई संगठनों ने लड़की के परिजनों पर उसको मार डालने का आरोप लगाया है।

गिलगित-बल्टिस्तान सहित पूरा कश्मीर पूरा हमारा: भागवत

पुलिस ने एनजीओ की शिकायत पर आईपीसी की धारा 304 और किशोर न्याय कानून की धारा 75 के तहत एक मामला दर्ज किया गया है और मामले की जांच कर रही है।

परिजनों पर अपने कारोबार की तरक्की के लिए लड़की से 69 दिन तक जबरदस्ती व्रत करवाने के आरोपों, कई संगठनों द्वारा इसकी कड़ी आलोचना और पुलिस के मामला दर्ज करने के बाद जैन धर्मगुरुओं ओर परिजनों ने अराधना को लेकर कई बातों का खुलासा किया है।

इससे पहले कर चुकी थी 8 और 34 दिन का उपवास

जैन धर्म के एक नेता ने अराधना की मौत पर कहा कि उसने किसी के दवाब में ये नहीं किया, वह अपनी शारीरिक क्षमताओं को अच्छी तरह जानती थी। उन्‍होंने कहा कि 2014 में उसने 8 दिन , 2015 में 34 दिन और इस साल 68 दिन उपवास रखा।

जैन सेवा संघ के अध्‍यक्ष अशोक सांकलेचा जैन ने कहा कि किशोरी आराधना समदारिया को परिजनों ने उपवास करने के लिए मजबूर नहीं किया था।

आराधना के पिता लक्ष्‍मीचंद समदारिया का कहना है कि 51 दिन के उपवास के बाद परिवार ने उसको उपवास खत्‍म करने के लिए कहा लेकिन उसने ऐसा करने से इनकार कर दिया।



व्हाट्सएप पर बता रहे अराधना की मौत का सच!

हैदराबाद में आराधना की मौत के बाद आलोचनाओं का सामना कर रहे जैन समुदाय के लोग इससे खफा हैं। शहर में व्हाट्सएप पर एक मैसेज में वायरल हो रहा है, जिसमें बताया जा रहा है कि उनके धर्म को बदनाम करने की कोशिश की जा रही है।

व्हाट्सएप मैसेज में बताया जा रहा है कि अराधना की मौत की वजह व्रत नहीं है। उसकी मौत दिल का दौरा पड़ने से हुई।

शोपियां में सीआरपीएफ की गाड़ी पर ग्रेनेड से हमला, दो जवान घायल

गौरतलब है कि आराधना जैन परंपरा के 'चतुर्मास' उपवास के तहत 68 दिन तक व्रत पर रही। उस दौरान वह दिन में केवल दो बार गर्म पानी ही ग्रहण करती थी।

3 अक्टूबर को व्रत पूरा होने पर धूमधाम से उसकी यात्रा निकाली गई थी, जिसमें शहर के बहुत से गणमान्य लोग शामिल हुए थे।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Jain Leader says 13-Year Old aradhna Knew Her Own Strength and Decided To Fast
Please Wait while comments are loading...