कोटखाई गैंगरेप केस: सोशल मीडिया की वजह से दब नहीं सका बड़ा मामला

Subscribe to Oneindia Hindi

शिमला। हिमाचल प्रदेश के जिला शिमला के कोटखाई में स्कूली छात्रा से गैंगरेप व मर्डर मामले में इतना बड़ा जनआंदोलन खड़ा नहीं होता अगर डिजिटल प्लेटफार्म लोगों को नहीं मिलता। यह सोशल मीडिया का ही कमाल था कि दरिंदगी करनेवालों की तस्वीरें तक लोगों के पास पुलिस के बताने के पहले ही पहुंच गई व बाद में जिन्हें पुलिस ने मुजरिम बताया उन्हें लोगों ने मुजरिम मानने से ही इनकार कर दिया जिससे पुलिस पर से लोगों का विश्वास उठ गया।

Read Also: कोटखाई केस: हिमाचल पुलिस की फजीहत, लंबी छुट्टी पर गए SIT चीफ

मामले की दबाने की कोशिशें की गईं

मामले की दबाने की कोशिशें की गईं

ऐसा नहीं है कि मामले को दबाने की कोशिशें नहीं हुईं। छह जुलाई को जब दांदी के जंगलों में मृतका का शव मिला। बताया जा रहा है कि एक ताकतवर महिला ने मीडिया में मामले में दबाने की कोशिश की लेकिन शाम होते-होते तो मामला सोशल मीडिया के जरिये पूरी तरह आग की तरह फैल चुका था। फेसबुक, ट्विटर से लेकर इंस्टाग्राम, यूट्यूब तक मामले से भर चुके थे व कुछ न्यूज वेबसाइट ने वारदात को पूरी तरह बेनकाब कर दिया जिससे मददगार चाहकर भी मदद नहीं कर पाये। लोग अखबार टेलिविजन नहीं अपने हाथ में पकड़े गये मोबाइल से घटना का हर अपडेट ले रहे हैं।

डिजिटल की वजह से उछला मामला

डिजिटल की वजह से उछला मामला

डिजिटल दुनिया का ही दबाव था कि मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह के ऑफिशियल फेसबुक पेज पर चार आरोपियों की तस्वीरें पुलिस जांच से पहले ही पोस्ट हो गईं व उन्हें कुछ देर बाद हटा लिया गया। यह मामला भी इतना तूल पकड़ गया कि इन तस्वीरों को पोस्ट करने वाले की नौकरी तक चली गई। अपनी किरकिरी होने के बाद हिमाचल सरकार ने उसे नौकरी से हटा दिया है। रोचक तथ्य यह है कि सीएम की ओर से जब यह तस्वीरें पोस्ट की गईं उस समय 11 जुलाई को दस बजकर 37 मिनट का समय था। जब हटाया गया तो उस समय 10 बजकर 57 मिन्ट हो चुके थे। तब तक कई लोगों ने सीएम की ओर से की गई इस गलती को पकड़ लिया था व 12 जुलाई सुबह तक यह गलती सरकार पर इतनी भारी पड़ गई कि उसे अपने कर्मचारी की नौकरी तक छीननी पड़ी। सरकार हैरान थी कि चंद मिनटों में ही लोगों ने आखिर कैसे इस गलती को पकड़ लिया। अब यही गलती सरकार पर आफत बन कर आई है।

सोशल मीडिया ने पूरे हिमाचल को घटना से जोड़ा

सोशल मीडिया ने पूरे हिमाचल को घटना से जोड़ा

यह डिजिटल मीडिया का ही कमाल था कि ठियोग की सड़कों पर जनसैलाब उमड़ पड़ा। लोग वहां के एसएचओ को घसीट कर ले गये,वर्दी फाड़ दी। एसपी को अपनी जान बड़ी मुश्किल से बचानी पड़ी। पुलिस वालों ने खुद को थाने में नजरबंद कर लिया। हालात बिगड़ते देख सरकार को चंद घंटो में ही सीबीआई जांच की मांग माननी पड़ी व बाद में हुई फजीहत के बाद एसआईटी चीफ जहूर जैदी को लंबी छुट्टी पर जाना पड़ा और मामले पर प्रदेश हाईकोर्ट ने स्वत: ही संज्ञान लिया।

डिजिटल मीडिया के आगे कुछ न कर सके ताकतवर

डिजिटल मीडिया के आगे कुछ न कर सके ताकतवर

इस केस से वह ताकतवर लॉबी जुड़ी है जिनके इशारे पर हिमाचल में कांग्रेस की सरकारें चलती रही हैं। कुछ भी कर सकने की कुव्वत रखने वाले डिजिटल मीडिया के आगे निहत्थे दिखाई दे रहे हैं, सरकार लाचार है। चाहकर भी कोई कुछ नहीं कर पा रहा है जिससे कि लोगों का गुस्सा शांत हो। चारों ओर खतरा यही बना है कि पता नहीं कब कहां से कौन सी बात वायरल हो जाये।

केस में पकड़े दोनों युवकों को छोड़ा

केस में पकड़े दोनों युवकों को छोड़ा

जिला शिमला के कोटखाई में स्कूली छात्रा से गैंगरेप व मर्डर मामले में शनिवार को पकड़े गये दो युवकों को पुलिस ने रविवार को छोड़ दिया। पुलिस ने इन दोनों युवकों के सैंपल और अन्य मेडिकल औपचारिकताएं पूरी करने के बाद छोड़ दिया। डीएनए टेस्ट के लिए इनके सैंपल लिए गए। बताते हैं कि पुलिस ने सैंपल लेने के बाद बाकी औपचारिकताएं पूरी कीं और फिर इन्हें रिहा कर दिया। पुलिस ने इन दो युवकों को शनिवार को कोटखाई में पूछताछ लिए बुलाया था और फिर मेडिकल के लिए शिमला भेजा था। इसके बाद शनिवार शाम को इन दोनों का यहां डीडीयू अस्पताल में मेडिकल करवाया गया। बताते हैं कि इन दोनों के ब्लड सैंपल और मेडिकल के लिए अन्य जरूरी सैंपल लिए। कहा जा रहा है कि इनके दांतों के भी सैंपल लिए गए हैं। वहीं, लोगों को जैसे ही पता चला कि कोटखाई मामले के दो संदिग्ध डीडीयू अस्पताल लाए गए हैं, लोग वहां पहुंचने शुरू हो गए। इसे देखते हुए पुलिस ने वहां पुख्ता पुलिस बंदोबस्त कर रखा था। यहां तक कि वहां पर क्यूआरटी को बुलाया गया था और उन जवानों की देखरेख में इन दोनों युवकों को अस्पताल से गाड़ी में बिठाया और वहां से निकाला।

Read Also: कोटखाई गैंगरेप: शिमला में स्कूल हुए बंद, सड़कों पर उतरे लोग

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Social media played big role in Kotkhai gang rape case.
Please Wait while comments are loading...