कोटखाई गैंगरेप: हिमाचल में फैला गुस्सा, प्रदर्शन, मुश्किल में कांग्रेस, भाजपा के हाथ लगा मुद्दा

Subscribe to Oneindia Hindi

शिमला। कोटखाई गैंगरेप मर्डर केस के दोषियों को जल्द पकड़ने की मांग को लेकर बुधवार को कैंडल मार्च व प्रदर्शन कोटखाई शिमला के बाद प्रदेश के दूसरे भागों में भी पहुंच गया। पुलिस की ओर से चार आरोपियों को दबोचने के दावों के बावजूद लोगों का गुस्सा शांत नहीं हुआ है। लोग सीबीआई जांच के साथ मामले को फास्ट ट्रैक कोर्ट में चलाने की मांग कर रहे हैं।

Read Also: कोटखाई गैंगरेप : 6 युवकों से पूछताछ, 1 गिरफ्तार, मिले अहम सुराग

मुश्किल में कांग्रेस, भाजपा को राजनीतिक लाभ

मुश्किल में कांग्रेस, भाजपा को राजनीतिक लाभ

चुनावी साल में सत्तारूढ़ दल कांग्रेस की मुश्किलें भी बढ़ी हैं। वहीं भाजपा इस मुद्दे को पूरी तरह भुनाने की कोशिशों में जुटी है। मामले में खाली हाथ पुलिस को जल्द बड़ा खामियाजा भुगतना पड़ सकता है। खराब व्यवस्था और पकड़ से दूर आरोपियों को लेकर एसएफआई जल्द सीएम वीरभद्र सिंह सहित वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों का घेराव करेगी। बहरहाल, कोटखाई गैंगरेप-मर्डर केस में अब प्रदेश भर में गुस्सा है। कई समाजिक व छात्र संगठन मामले की निंदा कर आरोपियों को शीघ्र गिरफ्तार करने की मांग कर रहे हैं।

हिमाचल प्रदेश में इस केस को लेकर गुस्सा

हिमाचल प्रदेश में इस केस को लेकर गुस्सा

शिमला में बुधवार को ऑल यूथ फेडरेशन ऑफ़ अपर शिमला ने शहर में मार्च निकाला औऱ कोटखाई की छात्रा के दोषियों को जल्द पकड़ने की मांग की। इस दौरान इस मामले को फास्ट ट्रैक कोर्ट में चलाने की मांग भी उठी। संजौली से शुरू हुआ शांति मार्च वाया मॉल रोड होते हुए डीसी ऑफिस तक पहुंचा। लोगों ने डीसी शिमला को ज्ञापन भी सौंपा। संस्था के सदस्य पवन खिमटा ने मांग की है कि शांत माने जाने वाले शिमला के लिए ये जघन्य अपराध शर्म की बात है। जैसा की सुनने में आ रहा की कुछ लोगों को हिरासत में लिया गया है यदि ये बात सच है तो दोषियों पर मामला फ़ास्ट ट्रैक कोर्ट में चलना चाहिए, क्योंकि ये मामला बेहद गंभीर है।

कांग्रेस सरकार पर भाजपा का हल्ला बोल

कांग्रेस सरकार पर भाजपा का हल्ला बोल

उधर नाहन में विधायक राजीव बिंदल की अध्यक्षता में भाजपा मंडल नाहन कैंडल मार्च के साथ डीसी कार्यालय पहुंचा और कांग्रेस सरकार पर जमकर हमला बोला। प्रदेश का सिर झुकाने वाले मामलों को लेकर बिंदल ने सीधे-सीधे प्रदेश सरकार पर हमला किया है और साथ ही प्रदेश सरकार को हटाकर यहां राष्ट्रपति शासन लगाने की मांग भी की है। उन्होंने आरोप लगाया कि कोटखाई और करसोग मामले में पुलिस अभी भी अंधेरे में तीर मार रही है। जांच किस दिशा में जा रही है और दोषी कब तक पकड़े जाएंगे। यह कहना सरकार और पुलिस दोनों के वश की बात नहीं रह गए हैं। प्रदेश सरकार के रवैये के कारण ही आज असामाजिक तत्वों को बोलवाला है। भाजपा मंडल ने राज्यपाल को भेजे ज्ञापन में मामले की जांच तुरंत सीबीआई को सौपने की मांग की है।

एसएफआई ने हमीरपुर में निकाली रैली

एसएफआई ने हमीरपुर में निकाली रैली

हमीरपुर में छात्र संगठन एसएफआई ने इस मामले में अभी तक पुलिस के किसी भी नतीजे पर न पहुंचने को लेकर रोष जताते हुए बाजार में रैली निकाली। गांधी चौक पर भी दर्जनों छात्रों ने काफी देर तक नारेबाजी कर आरोपियों को पकड़ने की मांग की।

एसएफआई ने उठाए कानून-व्यवस्था पर सवाल

एसएफआई ने उठाए कानून-व्यवस्था पर सवाल

एसएफआई के जिला अध्यक्ष संजीव सेठी ने कहा कि प्रदेश में कानून व्यवस्था पर सवाल उठाती हुई कई घटनाएं हुई हैं, लेकिन सरकार अभी भी हाथ पर हाथ धरे बैठी है। केवल बयानबाजी देकर सुर्खियां बटोरी जा रही है। अब सब्र का बांध टूट रहा है। उन्होंने कहा कि इस मामले में अब सीएम से लेकर वरिष्ठ अधिकारियों व मंत्रियों का भी घेराव किया जाएगा और इसकी सारी जिम्मेदारी प्रदेश सरकार व पुलिस प्रशासन की होगी।

मंडी में रोष प्रदर्शन, आरोपियों को पकड़ने की मांग

मंडी में रोष प्रदर्शन, आरोपियों को पकड़ने की मांग

वहीं मंडी जिला के जंजहैली के बासा कॉलेज में छात्रों ने रोष प्रदर्शन किया और रोष रैली निकाली। इस दौरान छात्रों ने एसडीएम राघव शर्मा के माध्यम से सीएम वीरभद्र सिंह को एक ज्ञापन भी भेजा। बहरहाल, बासा कॉलेज से शुरू हुई रैली एसडीएम कार्यालय तक गई। उन्होंने एसडीएम और सीएम से अपने लिए भयमुक्त माहौल बनाने की मांग की है। साथ ही दोनों ही प्रकरणों में संलिप्त आरोपियों को जल्द पकड़ने की भी मांग की।

Read Also: कोटखाई गैंगरेप मामले में सीएम की ये गलती बेकसूरों पर पड़ सकती थी भारी

देश-दुनिया की तबरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Kotkhai gangrape: People in Himachal Pradesh agitating against Congress govt.
Please Wait while comments are loading...