कोटखाई गैंगरेप: नाराज लोगों का भारी बवाल, थाने पर पथराव, वाहनों को तोड़ा

Subscribe to Oneindia Hindi

शिमला।  हिमाचल प्रदेश के कोटखाई गैंगरेप मर्डर केस में पुलिस की जांच से नाखुश लोग सैकड़ों की तादाद में शुक्रवार को लोग सड़कों पर उतर आये। पुलिस द्वारा आरोपियों को गिरफ्तार करने के बाद लोगों में गुस्सा भड़क गया है। कोटखाई से लेकर शिमला तक धरने प्रर्दशन शुरू हो गये हैं। लोग अपने घरों से निकल कर सड़कों पर आ गये हैं। सरकार व पुलिस के खिलाफ नारेबाजी कर रहे हैं। नेशनल हाईवे पर धरने के चलते सड़कें जाम हैं। ठियोग में तो हालात बेकाबू हो गये हैं।

Read Also: कोटखाई गैंगरेप: 'पुलिस की कहानी झूठी है, बेटी को नहीं मिला इंसाफ'

ठियोग में हालात बेकाबू, पथराव

ठियोग में हालात बेकाबू, पथराव

शुक्रवार को ठियोग बाजार में हालात बेकाबू से हो गए। सीबीआई जांच को लेकर धरना प्रदर्शन कर लोगों ने एसपी शिमला डीडब्लयू नेगी से धक्का मुक्की की और बेकाबू लोगों ने ठियोग थाने पर भी पत्थराव कर दिया। पुलिस की कुछ गाडिय़ों में तोड़- फोड़ भी की गई है। एसएफआई और जनवादी नौजवान सभा के आह्वान पर गुस्साए लोगों ने ठियोग बाजार में एनएच को पूरी तरह से जाम कर दिया है। सडक़ पर करीब 1500 से ज्यादा लोग जमा हो गए हैं। लोग इस केस में हाई प्रोफाइल लोगों के होने की बात कर रहे हैं, साथ ही पुलिस की लगातार बदलती स्टेटमेंट से भी वे उग्र हो गए हैं।

पुलिस के खिलाफ फूटा लोगों का गुस्सा

पुलिस के खिलाफ फूटा लोगों का गुस्सा

लोगों का एक ही मत है कि इस कोटखाई मर्डर केस की सीबीआई जांच होनी चाहिए। धरने पर बैठे लोगों का कहना है कि वह तब तक यहां से तभी हटेंगे, जब तक कोई बड़ा अधिकारी उनसे मुलाकात नहीं कर लेता। बहरहाल, हिमाचल पुलिस की एसआईटी द्वारा बहुचर्चित कोटखाई रेप और मर्डर मिस्ट्री को सुलझाने का दावा करने के 24 घंटे के भीतर लोगों का आक्रोश सामने आ गया। गुस्साए लोगों ने वहां पुलिस थाने पर पथराव कर दिया और पुलिस के तीन वाहन नष्ट किए हैं। लोगों ने एसपी, डीएसपी और पुलिस के वाहन को नष्ट किया है। लोगों मे वहां एनएच को जाम कर दिया है। लोगों को आरोप है कि पुलिस ने गलत लोगों को आरोपी बनाकर इस मामले को रफा- दफा करने का प्रयास किया है और असली आरोपियों को बचाया गया है। लोगों की मांग है कि इस मामले की जांच सीबीआई से करवाई जाए। ठियोग में हालात काबू करने के लिये अतिरिक्त सुरक्षा बल मंगवाये गये थाने की सुरक्षा बढ़ाई गई।मिली जानकारी के मुताबिक पुलिस ने छह प्रदर्शनकारी गिरफ्तार किए हैं। दरअसल मामले में सबसे पहले पकड़े गए आरोपी आशीष चौहान को वीआईपी ट्रीटमेंट मिल रहा है जिससे लोग भड़क गये हैं। वहीं लोग कह रहे हैं कि पुलिस ने जो आरोपी पकड़े हैं उनका अपराध से कोई वास्ता नहीं है। आरोपी आशीष चौहान को कोर्ट ने हलांकि पांच दिन के रिमांड पर भेजा है। उधर, मामले के पांच अन्य आरोपियों को कोर्ट में पेश किया जाएगा।

सैकड़ों लोग सड़क पर जमा, एनएच जाम

सैकड़ों लोग सड़क पर जमा, एनएच जाम

डीजीपी सोमेश गोयल और एसआईटी प्रमुख जहूर जैदी की प्रेस कान्फ्रेंस में आरोपियों के नाम सामने आने के बाद क्षेत्र के लोगों का गुस्सा बढ़ गया और शुक्रवार को यह सामने सड़क पर आ गया। लोगों ने एनएच-5 को जाम कर दिया है और पुलिस के खिलाफ जोरदार नारेबाजी की जा रही है। गुस्सा लोगों ने पुलिस के वाहन को तोड़ दिया है और पुलिस थाने वे घुसने का प्रयास कर रहे हैं। इस मामले के आरोपियों के नाम सामने आने के बाद लोगों में गुस्सा पनप गया था और गुरुवार को ही प्रदर्शन का ऐलान हो गया था। पुलिस को भी इसकी सूचना मिल गई थी और वह पहले से इसके लिए तैयार थी। बताते हैं कि एसपी शिमला डीडब्ल्यू नेगी भी वहां पहुंच गए थे। लोगों ने वहां पथाराव कर गाड़ियां नष्ट कर दी है सैकड़ों लोग सड़क पर जमा हैं।

देश-दुनिया की तबरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Kotkhai gang rape People agitation out of control in Himachal.
Please Wait while comments are loading...