कोटखाई गैंगरेप-मर्डर के बाद बच्चों की सुरक्षा के लिए जागी हिमाचल सरकार

Subscribe to Oneindia Hindi

शिमला। हिमाचल प्रदेश के कोटखाई में स्कूली छात्रा से गैंगरेप व मर्डर के बाद आखिर सरकार की भी निद्रा टूटी है खासकर शिक्षा महकमे की। राज्य सरकार ने अब सभी स्कूलों के लिये बाकायदा दिशा निर्देश जारी किए हैं। उच्चतर शिक्षा निदेशक ने सभी उपनिदेशकों और सभी स्कूल प्रधानाचार्यों से कहा है कि वे मॉर्निंग असेंबली के वक्त सभी स्कूली बच्चों को जागरूक करें कि वे स्कूल आते या फिर स्कूल से जाते वक्त किसी अनजान व्यक्ति के वाहन में न बैठें।

उच्चतर शिक्षा निदेशक डॉ बीएल विंटा ने इस संबंध में सभी उपनिदेशकों और स्कूल प्रिंसिपलों को पत्र लिखा है। इसमें उन्होंने लिखा है कि आज के बलदते माहौल में स्कूली बच्चे किसी न किसी हादसे का शिकार हो जाते हैं। इसे देखते हुए स्कूली बच्चों को समय-समय पर जागरूक करना जरूरी है।

Read Also: कोटखाई गैंगरेप: छुट्टी पर भेजे गए SIT चीफ, मीडिया से बात करने पर रोक

अनजान से न ले लिफ्ट, खाने की वस्तु को भी करें अस्वीकार

अनजान से न ले लिफ्ट, खाने की वस्तु को भी करें अस्वीकार

कोटखाई प्रकरण के बाद स्कूली छात्रों को अनजान लोगों से लिफ्ट न लेने की हिदायत दी गई है। वाहनों में लिफ्ट लेने के साथ-साथ उन्हें यह भी कहा गया है कि वे किसी अनजान से खाने की भी कोई वस्तु न लें। इसके साथ-साथ उन्हें यह भी कहा गया है कि वे गांव से स्कूल आते या फिर जाते वक्त अकेले न जाएं। स्कूली छात्र हमेशा ग्रुप में जाएं। खासकर लड़कियां कभी भी अकेले न जाए और न ही अकेले स्कूल को आएं, बल्कि स्कूल के बाकी बच्चों के साथ ही आए और वापस घर जाए। स्कूलों को जारी हिदायत में कहा गया है कि यदि किसी स्कूली छात्र या छात्रा को यह लगता है कि कोई अनजान व्यक्ति उनका पीछा करता है या फिर तंग करता है तो वे बेझिझक स्कूल के प्रिंसिपल या शिक्षक को बताए। इसके अलावा वे अपने घर वालों को भी इसके बारे में जानकारी दें।

घटनास्थल पर मृतक छात्रा की आत्मा की शांति के लिए हवन

घटनास्थल पर मृतक छात्रा की आत्मा की शांति के लिए हवन

हिमाचल प्रदेश में जिला शिमला के कोटखाई में स्कूली छात्रा से गैंगरेप व मर्डर मामले में इंसाफ मांगने की उठ रही आवाजों के बीच छात्रा के परिवार के लोग व नजदीकी रिश्तेदार घटनास्थल पर दांदी के जंगल में पहुंचे व यहां शांति पाठ व गायत्री हवन करवाया। मृतक आत्मा की शांति की कामना की। इस दौरान यहां पर करीब 400 से अधिक लोग मौजूद रहे, जिसमें नगर निगम शिमला के पूर्व मेयर संजय चौहान और जिला परिषद सदस्य सोहन ठाकुर भी शामिल रहे।

छात्रा के पिता ने पुलिस जांच से अपनी असंतुष्ट नजर आये। उन्होंने कहा कि सीबीआई को मामला अपने अधीन लेकर जल्द छानबीन शुरू करनी चाहिए, क्योंकि बरसात का मौसम है, ऐसे में घटना से जुड़े मौका ए वारदात पर कई सबूत नष्ट हो सकते हैं। उनसे छेड़छाड़ भी की जा सकती है। वहीं, इस जघन्य अपराध की चारों ओर कड़ी निंदा हो रही है। विभिन्न संस्थाओं द्वारा कार्यक्रम आयोजित कर छात्रा को श्रद्धांजलि दी जा रही है और हत्यारों को फांसी देने की मांग की जोर पकड़ रही है।

सीबीआई को केस ट्रांसफर होने में लग सकता है समय

सीबीआई को केस ट्रांसफर होने में लग सकता है समय

कोटखाई गैंगरेप मर्डर केस के सीबीआई को ट्रांसफर होने में समय लग सकता है। बताया जा रहा है कि सीबीआई केस लेने से पहले उसे देखेगी। यदि उन्हें लगेगा कि केस लिया जाना वाजिब है, तो ही वह यह केस लेगी। सीबीआई इस केस की मेरिट देखेगी क्योंकि एक बार किसी मामले में गिरफ्तारी होने के बाद सीबीआई ऐसे मामले कम ही हाथ में लेती है।

गौरतलब है कि प्रदेश पुलिस की एसआईटी ने इस मामले में छह लोगों को पकड़ कर दावा किया था कि उन्होंने यह मामला सुलझा लिया है। एसआईटी ने इस मामले में दो नेपाली, दो उत्तराखंड के, एक मंडी और एक स्थानीय व्यक्ति को इस मामले में संलिप्त पाया था। लेकिन, लोग पुलिस की इस जांच से नाखुश थे और उनका आरोप था कि इस मामले के आरोपी कोई और हैं और वे प्रभावशाली परिवारों से हैं। ऐसे में पुलिस को इस जांच का जिम्मा सीबीआई को सौंपा जाए।

Read Also: कोटखाई गैंगरेप केस का हिमाचल चुनाव पर असर, पढ़िए खास रिपोर्ट

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Kotkhai Gang Rape, Himachal govt advisory for safety of students.
Please Wait while comments are loading...